पटना में लगाई जाएगी मां गंगा की 101 मीटर ऊंची प्रतिमा, गंगा धाम के रूप में विकसित किया जाएगा यह इलाका

पटना में लगाई जाएगी मां गंगा की 101 मीटर ऊंची प्रतिमा, गंगा धाम के रूप में विकसित किया जाएगा यह इलाका

PATNA : बिहार में इन दिनों कई भव्य प्रतिमा का निर्माण किया जा रहा है। जिसमें महात्मा बुद्ध से अन्य देवी देवता शामिल हैं। अब मां गंगा की भी भव्य प्रतिमा बनाने की योजना बनाई गई है। यह प्रतिमा राजधानी से सटे दियारा इलाके में तैयार की जाएगी और इसी ऊंचाई 101 मीटर होगी।

गंगा धाम के रूप में होगी विकसित

बताया गया कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पटना के दियारा इलाके को गंगा धाम के रूप में विकसित करने की योजना है। जिसके लिए बिहार पर्यटन विभाग को प्रस्ताव दिया गया है। प्रस्ताव में गंगा धाम योजना के तहत सबलपुर दियारे में मां गंगा की 101 मीटर उंची भव्य प्रतिमा लगाई जाएगी। प्रतिमा के साथ ही इस इलाके में दो मंदिरों का भी निर्माण किया जाएगा। इस योजना को पूरा करने के लिए आईडीपीटीएस डीपीआर बना रही है।

राजधानी से सटे दियारा इलाके में मां गंगा की 101 मीटर ऊंची प्रतिमा लगेगी। दियारा इलाके को गंगा धाम के रूप में विकसित किया जाएगा। इस मद में कितनी राशि खर्च होगी, इसकी डीपीआर बनाई जा रही है। गंगा धाम को विकसित करने की योजना पर्यटन विभाग ने बनाई है। निजी निवेशकों के माध्यम से दियारा इलाके को विकसित किया जाएगा।

डीपीआर के बाद बनेगी आगे की योजना

इसके बाद राज्य सरकार के स्तर पर इसपर विचार होगा। गंगा धाम को विकसित करने में कई विभाग सहभागी बनेंगे। इसमें पर्यटन विभाग, कला संस्कृति एवं युवा विभाग, जल संसाधन विभाग, परिवहन विभाग प्रमुख रूप से शामिल है। योजना के अनुसार गंगाधाम को एक सोसाइटी के रूप में विकसित किया जाएगा।

दो चरण में होगा काम

बताया गया कि पर्यटन विभाग दो चरणों में गंगा धाम को विकसित कर रहा  है। जिसके पहले चरण में  देश-विदेश से पटना आने वाले पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए गंगा रिवर एक्यूरियम, गंगा म्यूजियम, गंगा रिलिजियन कनवेंशन सेंटर, स्टेडियम आदि का निर्माण होगा। यह पर्यटक स्थल गंगा के बीच में होगा। पहले फेज में 40 एकड़ में गंगा धाम को विकसित किया जाएगा।

दूसरे चरण में कुल 108 एकड़ में गंगा धाम को विकसित किया जाएगा। गंगा धाम तक पहुंचने के लिए बोट की व्यवस्था होगी। इसकी निगरानी पर्यटन विभाग की ओर से की जाएगी। विभाग की कोशिश होगी कि पर्यटकों को गंगा धाम तक पहुंचने में किसी तरह की परेशानी न हो। अगले दो-तीन सालों में इस योजना को मूर्त रूप दे दिया जाएगा।


Find Us on Facebook

Trending News