20 साल में पहली बार आ रहे फोनी तूफान का बिहार के इन जिलों में होगा भारी असर, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

20 साल में पहली बार आ रहे फोनी तूफान का बिहार के इन जिलों में होगा भारी असर, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

NEWS4NATON DESK : 20 साल में पहली बार आर रहे फनी तूफान ने ओडिशा में दस्तक दे दी है। तूफान की गंभीरता को देखते हुए पहले ही 10 लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया जा चुका है। एक अनुमान के मुताबिक, करीब 10 हजार गांव और 52 शहर इस भयानक तूफान के रास्ते में आएंगे। एनडीआरएफ की 28, ओडिशा डिजास्टर मैनेजमेंट रैपिड ऐक्शन फोर्स की 20 यूनिट और फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट के 525 लोग रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए तैयार हैं। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की 302 रैपिड रेस्पॉन्स फोर्स टीम तैनात की गई हैं।

गृह मंत्रालय ने बताया कि पीएम मोदी ने फोनी तूफान से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए सीनियर अधिकारियों के साथ मीटिंग की। इंडियन मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट (IMD) के आधिकारी ने बताया कि 1999 के सुपर साइक्लोन के बाद यह पहली बार होगा, जब राज्य इतने भीषण तूफान का सामना करेगा। 1999 में आए सुपर साइक्लोन में 10 हजार लोगों की जान चली गई थी। उस तूफान की रफ्तार 270-300 किलोमीटर प्रति घंटा की थी। वहीं, फोनी तूफान करीब 4-6 घंटे तक बेहद भीषण बना रहेगा। इसके बाद यह धीरे-धीरे कमजोर होगा।

मौसम विभाग ने बिहार के सीमांचल क्षेत्रों में इसका ज्यादा असर देखने का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अनुसार बिहार के सहरसा, पूर्णिया, सुपौल, अररिया किशनगंज जिले में भारी बारिश की चेतावनी दी है। वहीं तेज हवा के कारण झोपड़ियां और कच्चे मकान पूरी तरह बर्बाद हो सकते हैं। सड़कें और फसलों की भारी नुकसान हो सकता है। बिजली के खंभे गिरने और तूफान की वजह से उड़ने वाली वस्तुओं से भी खतरा रहेगा।

 

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News