कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव में शाम पांच बजे तक 53 फीसदी हुआ मतदान, जानिए कौन जीत रहा है चुनाव

कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव में शाम पांच बजे तक 53 फीसदी हुआ मतदान, जानिए कौन जीत रहा है चुनाव

पटना. कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव में शाम पांच बजे तक 53 प्रतिशत मतदान हुआ. मतदान का अंतिम घंटा अब शेष है, यानी शाम 6 बजे मतदान की प्रकिया पूरी हो जाएगी जिसके बाद मतदान का कुल प्रतिशत ज्ञात होगा. निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के अनुसार अपराह्न 3 बजे तक कुढ़नी में 48 प्रतिशत मतदान हुआ. इसके पहले निर्वाचन आयोग की ओर से जारी विवरण के अनुसार सुबह 9 बजे तक जहाँ 11 प्रतिशत मतदान हुआ था वहीं सुबह 11 बजे तक 24 फीसदी मतदान हुआ. बाद में 1 बजे तक मतदान का प्रतिशत बढ़कर 37 हो गया और फिर शाम तीन बजे के आंकड़ों में अनुसार 48 प्रतिशत मतदान हुआ है. कुढ़नी के 320 मतदान केंद्र पर शाम 6 बजे तक मतदान होना है. 

सुरक्षा के भारी इंतजाम के बीच कुढ़नी में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान चल रहा है. निष्पक्ष और भयमुक्त चुनाव सम्पन्न कराने के लिए तमाम बूथों पर अर्धसैनिक बल तैनात दिख रहे हैं. चुनाव मैदान में 13 उम्मीदवार हैं। इनके भाग्य का फैसला कुढ़नी के तीन लाख 11 हजार 728 मतदाता करेंगे। सुरक्षा के लिए अर्द्धसैनिक बलों की कुल 16 कंपनियां लगाई गई हैं।

दरअसल, सुबह 7 बजे ठंड के कारण मतदान की प्रक्रिया धीमी गति से शुरू हुई. वहीं जैसे जैसे दिन चढ़ रहा है. वैसे वैसे मतदान की गति जोर पकड़ रही है. इसी का नतीजा है कि जहाँ पहले दो घंटों में 11 प्रतिशत मतदान हुआ और उसके अगले दो घंटों में 13 प्रतिशत मतदान हुआ, वहीं उसके अगले दो घंटों में यानी 11 बजे से 1 बजे के बीच फिर से 13 प्रतिशत हुआ. इस प्रकार पहले सुबह 7 बजे से दोपहर एक बजे के बीच कुल 37 प्रतिशत मतदान हुआ है. इसी तरह 3 बजे तक मतदान का प्रतिशत बढ़कर 48 तक पहुंच गया. वहीं 3 से 5 बजे के बीच करीब 5 फीसदी मतदाताओं ने वोट डाला और मतदान प्रतिशत 53 तक पहुंच गया. 

भाजपा के केदार गुप्ता और जदयू के मनोज कुशवाहा के बीच इस उपचुनाव में भाजपा और महागठबंधन के उम्मीदवार के बीच सीधा मुकाबला है, लेकिन मुकेश सहनी की पार्टी और एआईएमआईएम इनका खेल बिगाड़ सकती है। वहीं चुनाव को लेकर प्रशासन की ओर से शांतिपूर्ण, निष्पक्ष एवं भयमुक्त चुनाव कराने के लिए आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सभी बूथों पर धारा 144 लगा दी गई है। 

2020 के विस चुनाव में कुढ़नी सीट पर राजद की जीत हुई थी। वहीं, भाजपा के उम्मीदवार केदार गुप्ता महज 712 मतों चुनाव हार गए थे। 2020 में एनडीए में भाजपा को जदयू का भी समर्थन हासिल था। इस बार जदयू और राजद एक साथ हैं। कांग्रेस व वाम दल समेत सात दलों की ताकत भी शामिल है, जबकि भाजपा लोजपा के चिराग पासवान और पशुपाति पारस की मदद से संघर्ष कर रही है।


Find Us on Facebook

Trending News