चेक क्लोन कर कॉलेज के बैंक खाते से 62.80 लाख रु. निकाल लिए, बचे थे सिर्फ 13 हजार रुपए

चेक क्लोन कर कॉलेज के बैंक खाते से 62.80 लाख रु. निकाल लिए, बचे थे सिर्फ 13 हजार रुपए

PATNA : अब तक आम लोगों को चूना लगाते रहे शातिर चोरों ने पटना कालेज को बड़ा आर्थिक झटका दिया है। यहां चोरों ने क्लोन चेक के जरिए कॉलेज  के खाते से 62.80 लाख रुपए उड़ा लिए। चोरी की घटना सामने आने के बाद कॉलेज प्रशासन में हड़कंप मच गया है। कॉलेज के प्राचार्य ने पीरबहोर थाने में चोरी की शिकायत दर्ज कराई है। 

घटना के बारे में बताया गया कि चोरी की घटना लगभग तीन माह पहले की है. लेकिन कॉलेज प्रशासन को इसकी जानकारी तीन दिन पहले हुई। कॉलेज के प्रिंसिपल अशोक कुमार ने ने बताया कि महाविद्यालय का एकाउंट इलाहाबाद बैंक में है। उनका कहना था ओरिजिनल चेक अब कॉलेज के लॉकर में बंद है। 

इस तरह से मामला आया सामने

तीन माह बाद चोरी की जानकारी मिलने की घटना को लेकर बताया गया कि कॉलेज प्रशासन ने 17 जुलाई काे एक टीचर काे 16 हजार का चेक दिया गया था। वह चेक बाउंस कर गया। पता चला कि कॉलेज के खाते में रकम मात्र 13 हजार बची हुई है। उसके बाद पता चला कि खाते से 62.80 लाख अवैध रूप से निकासी हो गई है। अहमदाबाद स्थित एक बैंक के ग्राहक के खाते में गई है। वह खाता सब्जी की एक कंपनी एरॉन के नाम से है।

बैंक मैनेजर और कर्मियों के खिलाफ केस दर्ज 

मामले में कॉलेज प्रशासन की तरफ से पटना विवि परिसर में संचालित इलाहाबाद बैंक के मैनेजर और कर्मियों के खिलाफ प्राचार्य और भूगोल विभाग के प्रोफेसर मो. नाजिम के बयान पर केस दर्ज किया गया। इन्हीं दोनों के ज्वाइंट साइन से कॉलेज के खाते से रकम की निकासी होती है। 

बैंक पर इसलिए उठ रहे सवाल

पटना कॉलेज के प्राचार्य ने कहाइतनी मोटी रकम निकल गई पर जिस बैंक में कॉलेज का खाता है, उसने कंफर्म तक नहीं किया कि चेक किसी को दिया गया है या नहीं? अब सवाल उठता है कि आखिर कैसे कालेज के चेक का क्लोन हो गया। कहीं किसी काॅलेज के स्टाफ की मिलीभगत तो नहीं? यहीं नहीं जिन दो लोगों के साइन से रकम निकलती है तो उन दोनों का हूबहू साइन किसने कैसे कर दिया? क्या स्थानीय बैंक की भी इसमें कोई मिलीभगत है? पीरबहोर थानेदार सबीह उल हक ने बताया कि पुलिस छानबीन करने में जुटी है।


Find Us on Facebook

Trending News