99 % क्राइम डिटेक्शन! अपराध भले ही न रोक पाए, लेकिन अपराधी पुलिस की पकड़ से नहीं बच पाए

99 % क्राइम डिटेक्शन! अपराध भले ही न रोक पाए, लेकिन अपराधी  पुलिस की पकड़ से नहीं बच पाए

KATIHAR : बिहार के क्राइम कैलेंडर में साल भर कटिहार के क्राइम ग्राफ के बढ़ते सेंसेक्स की चर्चा खूब रहा है, इस बीच राहत की बात यह है क्राइम प्रिवेंशन के मामले में न सही क्राईम डिटेक्शन के मामले में कटिहार पुलिस के स्ट्राइक रेट  लगभग 99% रहा जो बढ़ते अपराध पर दबिश बनाने के लिए न सही लेकिन अपराधियों के लिए एक कड़ा संदेश है कि अगर अपराध करोगे तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहो, बीते 24 दिसंबर को देर रात चाचा-भतीजा को गोली मारने के मामले को पुलिस ने चुनौती के रूप में लेते हुए महज कुछ ही घंटों में मामले को सुलझाते हुए मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर अपने स्ट्राइक रेट को बरकरार रखा है, क्या था पूरा मामला और कैसे हुआ पूरा खुलासा देखिए इस रिपोर्ट में। 

बिहार के नए डीजीपी द्वारा अपराधियों को दौराने को दौड़ाने फरमान के बाद कटिहार पुलिस भले ही अब तक अपराधियों को दौड़ाने को लेकर अपनी रणनीति स्पष्ट नहीं किया है मगर अपराध को अंजाम देकर भागने से पहले ही अपराधियों को पकड़ने में कटिहार पुलिस के सफलता लगातार बरकरार है।

बीते 24 दिसंबर को नगर थाना क्षेत्र के वर्णवाल चौक पर आपसी विवाद में चाचा-भतीजा को गोली मारकर घायल कर दिया गया था  दोनों का इलाज अब तक पूर्णिया के एक निजी नर्सिंग होम में जारी है, बड़ी बाजार वर्णवाल चौक इस घटना के बारे में बताया जा रहा है 25 वर्षीय अमित बारिक और 50 वर्षीय उनके चाचा रामप्रसाद बारीक  को आपसी बहस बाजी के बाद पड़ोस के ही विशाल यादव ने गोली मार दिया था, अमित के पैर के जांघ में जबकि  रामप्रसाद जी के पेट में गोली लगा था ऑपरेशन के बाद दोनो के शरीर से गोली तो निकाल दिया गया है। लेकिन अब तक दोनों का इलाज पूर्णिया के निजी नर्सिंग होम में जारी है।

 उधर घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने विशाल पर अपराध के कई संगीन आरोप लगाते हुए रोड जाम कर प्रदर्शन भी किया था, अमित के भाई ने कहा कि मामूली विवाद के कारण विशाल ने उनके भाई और चाचा को गोली मार दिया है इस पर वे लोग सड़क पर आगजनी और प्रदर्शन कर जल्द अपराधियों के गिरफ्तारी के मांग कर रहे थे, घायल अमित ने भी अपने बयान में विशाल के द्वारा ही गोली मारने का आरोप लगाया था।

कटिहार एसपी ने कहा कि पुलिस ने घटना को चुनौती के रूप में लिया था और सदर डीएसपी के नेतृत्व में टीम गठित कर दिया गया था, पुलिस महज कुछ ही घंटों के अंदर आरोपी विशाल को गिरफ्तार कर मामले का उद्भेदन कर लिया है,एसपी जितेंद्र कुमार ने कहा कि किसी भी तरह के अपराध की घटना को अंजाम देने देने वाले को कटिहार पुलिस नहीं बख्शेंगे फिलहाल घटना के क्या कारण है और इसके पीछे और किन-किन लोगों का हाथ है जांच के बाद एसपी इस पर आगे कुछ बोलने की बात कह रहे हैं।

निश्चित तौर पर साल के अंत में अपराध के कैलेंडर क्लोजिंग करने से पहले कटिहार पुलिस के द्वारा इस घटना को उद्भेदन कर लेना एक अच्छा उपलब्धि जरूर है लेकिन नए साल के दस्तक के साथ कटिहार पुलिस को और चौकन्ना होना पड़ेगा ताकि सिर्फ क्राईम डिटेक्शन नहीं बल्कि क्राइम प्रिवेंशन के मामले में भी कटिहार के क्राइम ग्राफ का आंकड़ों में सुधार हो सके।

Find Us on Facebook

Trending News