पत्नी को उपमहापौर बनाने के लिए चाकरी करता एक पार्षद पति,महापौर की नजर भी महिलाओं पर ही

पत्नी को उपमहापौर बनाने के लिए चाकरी करता एक पार्षद पति,महापौर की नजर भी महिलाओं पर ही

PATNA : पटना नगर निगम के इतिहास में पहली बार महिला महापौर बनी सीता साहू को अपने बेहतर साथ के लिए महिला को ही उप-महापौर की कुर्सी पर बैठाने को लेकर राजी करने की कोशिश की जा रही है। पार्षदों का मन पढ़ने के लिए नूतन राजधानी के दो और बांकीपुर अंचल के एक पार्षद पति अपने समर्थन में पार्षदो को जुटाने के लिए लगातार चाकरी कर रहे हैं। हर दिन दूसरे पार्षदों के पास समर्थन जुटाने के लिए उनका दरवाजा खटखटाया जा रहा है। 

हालांकि, अबतक इस पर सहमति नहीं बन पाई है। दूसरे तरफ पूर्व महापौर अफजल इमाम से उम्मीदवार देने की मांग की जा रही है। बांकीपुर अंचल के लंगरटोली के कांग्रेस समर्थित पार्षद अपने बेहतर छवि को भुनाने की भरपूर कोशिश कर रहे हैं। बस एक बार उनके नाम की बात हो जाए। इधर मेयर समर्थित पार्षद भी इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि यदि अफजल इमाम ने अपनी उम्मीदवारी दे  तो उनकी जीत पक्की हो।

इधर वर्तमान से पूर्व किए गए उप-महापौर विनय कुमार का गुट विरोधियों के एक-एक गतिविधि पर नजर जमाए हुए हैं। इन्हें बस आश्वासन दिए गए पार्षदों के पलटी मारने का इंतजार है। यदि चार से पांच पार्षद भी महापौर गुट के खिलाफ हो जाते है तो पासा पलट सकता है। खिसियाए पार्षद विरोध में वोटिंग करते हैं तो विरोधी गुट की बड़ी जीत होगी। अब 20 जुलाई को देखना दिलचस्प होगा कि किस गुट के कौन उम्मीदवार बनकर सामने आते हैं।

वैसे नूतन राजधानी अंचल के पार्षदों द्वारा उप-महापौर की कुर्सी पर अपनी दावेदारी इस बार कमजोर पर रही है। वजह है पिछले एक दशक में उप-महौपार की कुर्सी पर इसी अंचल का दबदबा रहा है। विनय कुमार के अलावा दूसरे पार्षदों भी इस कुर्सी को संभाल चुके हैं। 2017 में निगम चुनाव के बाद इसी अंचल के वार्ड 28 के पार्षद विनय कुमार ने दूसरी बार उप-महापौर की कुर्सी पर 52 वोट से जीत दर्ज की थी। 

उन्होंने बांकीपुर अंचल के वार्ड 38 के पार्षद डॉ. आशीष सिन्हा को करारी शिकस्त दी। लेकिन, जिन पार्षदों ने इसे मेयर बनाया था। वही इस बार कुर्सी ले उड़े। अब देखना दिलचस्प होगा कि इस बार कंकड़बाग, पाटलिपुत्र, अजीमाबाद, सिटी और बांकीपुर अंचल में से किसकी जीत होती है।


Find Us on Facebook

Trending News