बेटी की शादी से पहले घर में लगी भीषण आग, लाखों की सम्पत्ति जलकर हुई राख

बेटी की शादी से पहले घर में लगी भीषण आग, लाखों की सम्पत्ति जलकर हुई राख

GAYA : जिले के डुमरिया प्रखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत कोल्हू बार के सलैया गांव में अंबिका पासवान के घर में अचानक आग लगने से लाखों की संपत्ति जलकर राख हो गई। इसी दरमियान घर के बगल में बांधे हुए दो मवेशी भी बुरी तरह से झुलस गए। सूचना पाते ही स्पॉट पर डुमरिया प्रखंड के भाजपा मंडल अध्यक्ष संजीव कुमार पाठक जायजा लेने पहुँचे तो देखा के बैल बुरी तरह से झुलस गया है। जो ज़िंदगी और मौत के बीच छटपटा रहा था। उन्होंने बताया की बैल सलैया गॉव के ही पीडीएस दुकानदार गणेश पासवान का है। जिस घर में आग लगा है उस घर में दो-चार दिन बाद शादी थी। इस दरमियान घर के मालिक अंबिका पासवान शादी के लिए बहुत सा व्यवस्था करके रखे थे। जो जलकर खाक हो गया। 

शादी की व्यवस्था के लिए अंबिका पासवान के दामाद चंदन पासवान ₹20000 लेकर आए थे। उसी घर में फुल पैंट में टांगे हुए थे। वह भी  जलकर राख हो गया। इस मौके पर प्रखंड प्रमुख संतोष कुमार गुप्ता,पंचायत समिति सदस्य अजय पासवान, भाजपा मंडल महामंत्री विजय कुमार सिंह,राजद नेता संतन यादव,महुड़ी के उप मुखिया बबलू  जी,पूर्व पंचायत समिति सुरेश पासवान, बीतल पासवान,राजेंद्र पासवान,वार्ड सदस्य संदीप कुमार आदि ने पीड़ित परिवार से मिलकर आर्थिक रूप से स्थानिय अंचलाधिकारी से मदद की गुहार लगाई। इस दरमियान प्रखंड प्रमुख संतोष कुमार गुप्ता एवं भाजपा मंडल अध्यक्ष संजीव कुमार पाठक ने डुमरिया सीओ से बात कर शीघ्र उचित मुआवजा दिलाने की बात कही है। बता दें की जिस घर में कई वर्षों से एक बेटी की शादी के लिए दहेज़  का सामान वर्षों की मेहनत से बेटी के पिता ने जमा किया था। वह मिनटों में जलकर खाक हो गया।

वहीँ जिले के शेरघाटी।प्रखंड क्षेत्र के चांपी गांव में सोमवार को हुए आगजनी से लगभग डेढ़ सौ मन गेहूं का भूसा जलकर राख हो गया। पीड़ित किसान जोगिंदर मांझी ने बताया कि 200 से अधिक गेहूं का बोझा की दौनी कर भूसा खलिहान में ही रखा हुआ था। लगभग 10 बजे दिन में अचानक किसी ने आग लगा दिया। जिससे गेहूं का भूसा जलकर राख हो गया। आगजनी की सूचना पर स्थानीय पुलिस एवं दमकल विभाग का दल दमकल के साथ पहुंचकर आग पर काबू पाया। इसके पूर्व स्थानीय ग्रामीणों के द्वारा आग को बुझाने के लिए मोटर पंप से पानी चलाया जा रहा था। लेकिन आग पर पूर्ण सफलता नहीं मिली थी। आगजनी से लगभग 15000 की संपत्ति का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि जानवरों के लिए 3 महीने का खुराक का था। गर्मी के मौसम में जानवर को गेहूं का भूसा खिलाया करते थे। बरसात के मौसम तक गेहूं का भूसा जानवरों का चारा था। भूसा जलने से जानवरो के खाना पानी की समस्या खड़ी हो गई। पीड़ित किसानों ने आगजनी के मामले में संदेह व्यक्त करते हुए मनचलों की करतूत बताया है। आगजनी से हुए बर्बादी के संबंध में किसान द्वारा अंचल अधिकारी शेरघाटी को लिखित आवेदन देकर मुआवजे की मांग की गई है। इधर कृषि सलाहकार सुनील कुमार सिंह ने बताया कि किसान द्वारा गेहूं का भूसा जलने का की सूचना दी गई है जिसके आलोक में संबंधित विभाग को आवेदन दिया गया है।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News