गोहत्या की वकालत करनेवाले प्रोफ़ेसर चढ़े पुलिस के हत्थे,आदिवासी संगठनों ने की रिहा करने की मांग

गोहत्या की वकालत करनेवाले प्रोफ़ेसर चढ़े पुलिस के हत्थे,आदिवासी संगठनों ने की रिहा करने की मांग

JHARKHAND: गो हत्या और गोमांस का की वकालत करनेवाले प्रोफ़ेसर जितराई हांसदा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उनकी गिरफ्तारी जमशेदपुर को-ऑपरेटिव कॉलेज से हुई है. प्रोफ़ेसर हांसदा की गिरफ्तारी के बाद अब आदिवासी संगठन उनके पक्ष में उतर गए है. 

इसी सिलसिले में आज उन्होंने उपायुक्त से मिलकर हांसदा को अबिलम्ब रिहा करने की मांग की. आदिवासी संगठन के लोगों ने कहा कि हांसदा ने मॉब लिंचिंग का विरोध किया था न कि गोहत्या की वकालत की थी. उन्होंने कहा कि आदिवासियों के परंपरा के तहत पशु वध जायज है. 

बताते चलें की साल 2017 में गोमांस खाने को आदिवासियों की परंपरा बताते हुए फेसबुक पर प्रोफेसर जीतराई हांसदा ने आपत्तिजनक पोस्टिंग की थी. उस समय उनके खिलाफ जमशेदपुर के साकची थाना में मामला दर्ज किया गया था. इसके बाद प्रोफेसर हांसदा वेश बदलकर जमशेदपुर को ऑपरेटिव कॉलेज में अनुबंध पर अध्यापन का काम कर रहे थे. जहां रविवार को पुलिस ने उन्हें गुप्त सूचना मिलने के बाद गिरफ्तार कर भेज दिया गया था.

जमशेदपुर से संतोष कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News