बेटी के नक्शेकदम पर चल पड़े अब्बू : प्रयागराज हिंसा के मास्टर माइंड का शाहिनबाग से जुड़ा कनेक्शन, प्रदर्शन में शामिल इस छात्रा के हैं पिता

बेटी के नक्शेकदम पर चल पड़े अब्बू : प्रयागराज हिंसा के मास्टर माइंड का शाहिनबाग से जुड़ा कनेक्शन, प्रदर्शन में शामिल इस छात्रा के हैं पिता

DESK : ऐसा माना जाता है कि पिता के नक्शेकदम पर उनके बच्चे चलते हैं। लेकिन, प्रयागराज हिंसा के लिए जिस शख्स को मास्टरमाइंड बनाया गया है। उनके लिए यह कहानी विपरीत है। यहां एक पिता अपनी बेटी के दिखाए रास्ते से एक कदम आगे बढ़ गया। जहां बेटी सिर्फ धरना प्रदर्शन तक सीमित रही, वहीं उनके पिता दंगे करवाने के आरोपी बनाए गए हैं।

यहां हम बात अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) की छात्रा रही और शाहीन बाग घटना के मास्टरमाइंड शारजील इमाम (Sharjeel Imam) की सहयोगी जेएनयू (JNU) छात्रा आफरीन फातिमा (Afreen Fatima) की कर रहे हैं। प्रयागराज हिंसा के लिए फातिमा के पिता जावेद मोहम्मद उर्फ पम्प (Javed Mohammad Alias Pump) को मास्टर माइंड बताया गया है। प्रयागराज पुलिस ने आफरीन फातिमा सहित उसके अब्बू जावेद मोहम्मद उर्फ पम्प (Javed Mohammad Alias Pump), उसकी बीवी और छोटी बेटी को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है। आरोपी के मोबाइल में हिंसा से जुड़े कई महत्वपूर्ण सुबूत मिले हैं। बता दें कि जावेद वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया का प्रदेश महासचिव है और CAA-NRC के विरोध प्रदर्शनों के दौरान शाहीन बाग में शामिल रहा था।

घर गिराने के भी आदेश

इसके साथ जावेद मोहम्मद के घर पर भी बुलडोजर चलाने का भी निर्देश दे दिया गया है। जावेद के मकान को तोड़ने की नोटिस जारी करते हुए प्रयागराज विकास प्राधिकरण (PDA) ने कहा, आपका मकान उत्तर प्रदेश नगर नियोजन एवं विकास अधिनियम-1973 के प्रावधानों के विरुद्ध अनधिकृत रूप से निर्मित किया गया है। इस संबंध में 10 मई 2022 को आपको कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था और 24 मई को सुनवाई के दौरान ना ही आप और ना ही आपका अधिवक्ता उपस्थित हुआ और ना ही कोई दस्तावेज प्रस्तुत किए गए।”


आज घर खाली करने के अंतिम दिन

नोटिस में आगे कहा गया है, “इसको ध्यान में रखते हुए 25 मई 2022 को भवन ध्वस्तीकरण के लिए आदेश पारित किया गया। इस संबंध में नोटिस लगा दी गई है। आप भवन को ध्वस्त कर 9 जून 2022 तक सूचित करें, अन्यथा 12 जून 2022 को प्रात: 11 बजे भवन को खाली करें, ताकि ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की जा सके।

विरोध में उतरे AMU के छात्र संगठन

इस घटना के बाद AMU के पूर्व छात्रों की एक संस्था AMU को-ऑर्डिनेशन कमिटी और कट्टरपंथी समर्थक आफरीन फातिमा और उसके अब्बू के पक्ष में खुलकर खड़े हो गए हैं। इसको लेकर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ने एक पत्र जारी किया है। जारी पत्र में कहा गया है कि यूपी पुलिस जानबूझकर फातिमा के परिवार को परेशान कर रही है। 

इस संबंध में पत्र में कहा गया है, “AMU के वीमेन कॉलेज स्टूडेंट्स यूनियन की पूर्व अध्यक्ष आफरीन फातिमा और उनके परिवार को यूपी पुलिस ने टारगेट करते हुए आधी रात को हिरासत में ले लिया। हमें पता चला है कि उनके अब्बू, अम्मी और छोटी बहन को अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है और अन्य लोगों को घर खाली करने के लिए बाध्य किया गया है।

शरजील इमाम की करीबी है फातिमा

आफरीन फातिमा AMU वीमेन कॉलेज स्टूडेंट यूनियन की पूर्व अध्यक्ष और JNU की छात्रसंघ की काउंसलर है। वह शाहीन बाग साजिश के मास्टरमाइंड शरजील इमामल की करीबी है। आफरीन फातिमा ने आतंकवादी अफजल गुरु (Afzal Guru) को ‘निर्दोष’ बताते हुए एक ट्वीट किया था। अफजल 2001 के संसद हमले के दोषी का और उसे फाँसी की सजा दी गई थी।


Find Us on Facebook

Trending News