DSP पर एक्शनः दफ्तर में बैठे-बैठे जारी करते थे सुपरविजन रिपोर्ट, बेमन से गवाहों का लेते थे बयान, ADG की जांच में पकड़ी गई गड़बड़ी

DSP पर एक्शनः दफ्तर में बैठे-बैठे जारी करते थे सुपरविजन रिपोर्ट, बेमन से गवाहों का लेते थे बयान, ADG की जांच में पकड़ी गई गड़बड़ी

PATNA: बिहार के एक डीएसपी बिना घटनास्थल पर गये ही सुपरविजन रिपोर्ट निकालते थे। बेमन से घटनास्थल पर गवाहों का बयान लेने व दफ्तर से बैठे-बैठे ही सुपरविजन रिपोर्ट निकालने के आरोप में  डीएसपी पर कार्रवाई की गई है. गृह विभाग ने डीएसपी सहरियार अख्तर के खिलाफ कार्रवाई किया है. विभागीय कार्यवाही के बाद डीएसपी पर निंदन की सजा तथा एक वेतन वृद्धि असंचात्मक प्रभाव अवरूद्ध करने का दंड दिया गया है.

दरअसल नवादा के तत्कालीन एसडीपीओ सहरियार अख्तर के खिलाफ डीजीपी के आदेश पर एडीजी वितंतु एवं तकनीकी सेवाएं ने उनके कार्यालय जाकर निरीक्षण किया था. एडीजी ने नवादा के तत्कालीन एसडीपीओ के सुपरविजन रिपोर्ट में से कई केस से जुड़े फाइल को खंगाला था. कुछ केस में से रैंडम रूप से जांच किया गया तो पाया गया कि पर्यवेक्षण घटनास्थल पर जाकर नहीं किया गया है. पर्यवेक्षण टिप्पणी समर्पित करने में बेवजह विलंब किया गया. इनके घटनास्थल पर नहीं जाने का औचित्य स्पष्ट नहीं किया गया. निरीक्षण के क्रम में यह नहीं पाया गया कि तत्कालीन एसडीपीओ ने घटनास्थल पर पहुंचकर तत्परता पूर्वक मुआयना किया हो या कांड के अनुसंधान में निर्णायक निर्देश दिए हो. गंभीर कानूनों का भी पर्यवेक्षण मात्र 30 से 40 मिनट में किया गया.

एडीजी ने पाया कि ऐसा प्रतीत होता है कि वह घटनास्थल पर तो गए लेकिन सरसरी नजर से ही उन्होंने  वादियों का बयान अंकित किया. उनका यह आचरण घोर लापरवाही का परिचायक है. इन आरोपों के बाद गृह विभाग ने नवंबर 2020 में विभागीय कार्यवाही चलाने का निर्णय लिया। विभागीय कार्यवाही में एसडीपीओ सहरियार अख्तर के खिलाफ निंदन व एक वेतनवृद्धि असंचयात्मक प्रभाव से अवरूद्ध करने का दंड दिया गया।

Find Us on Facebook

Trending News