ADG साहब हुए गिरफ्तार, निलंबन के बाद पिछले चार माह से चल रहे थे फरार, इस चाल में फंस गए हुजूर

ADG साहब हुए गिरफ्तार, निलंबन के बाद पिछले चार माह से चल रहे थे फरार, इस चाल में फंस गए हुजूर

RAIPUR/NEW DELHI : भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति के केस में चार महीने से फरार निलंबित एडीजी जीपी सिंह को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया है। उनकी गिरफ्तारी नई दिल्ली में की गयी है। बताया गया कि उनकी गिरफ्तारी के लिए रायपुर से EOW-ACB की टीम रवाना हुई थी।  फिलहाल जीपी सिंह सस्पेंड चल रहे हैं। छत्तीसगढ़ ACB के चीफ रह चुके IPS जीपी सिंह पर राज्य सरकार राजद्रोह, आय से अधिक संपत्ति का केस कर चुकी है

गिरफ्तारी के लिए चली यह चाल, तब आए गिरफ्त में

बताया गया कि अब  तक जब भी एडीजी की गिरफ्तारी की योजना बनी, उसमें हर बार वह पकड़ में आने से बच जा रहे थे। माना जाता था कि उनकी अंदर तक इतनी पैठ थी कि सारी सूचना लीक हो जाती थी। लेकिन इस बार कोई चूक न हो, इसके लिए EOW-ACB ने एक चाल चली। जीपी को पकड़ने के लिए ईओडब्लू-एसीबी के कई अफसरों को कोरोना होने का हल्ला उड़ाया गया, ताकि निलंबित एडीजी बेफिक्र हो जाएं। यह योजना कामयाब रही और एसीबी-ईओडब्लू की टीम ने जब घेरेबंदी कर पकड़ा, तब वे इवनिंग वॉक कर रहे थे। 

जांच के बाद भ्रष्टाचार का केस उसी के बाद फरार हुए एडीजी

ईओडब्लू और एसीबी ने पिछले साल 1 जुलाई को जीपी के टैगोर नगर स्थित बंगले में छापा मारकर करोड़ों की अघोषित संपत्ति पकड़ी थी। जांच में आय से अधिक संपत्ति की पुष्टि होने के बाद जीपी के खिलाफ भ्रष्टाचार का केस दर्ज किया गया। उसी के बाद से निलंबित एडीजी फरार हो गए। 

इतनी संपत्ति का हुआ था खुलासा

एसीबी और ईओडब्लू के अफसरों ने छापे के बाद दावा किया था कि जीपी के घर से रायपुर और ओडिशा के अलावा नोएडा दिल्ली और लुधियाना में प्रॅापर्टी के दस्तावेज मिले हैं। इसके अलावा बैंक खाते और 79 इंश्योरेंस की पॉलिसी मिलने की जानकारी दी गई थी। ओडिशा में एक खदान में पार्टनरशिप के अलावा रायपुर के एक बड़े फार्म हाऊस और शादी घर में पार्टनरशिप होने का दावा किया गया था। एसीबी ने छापे के बाद निलंबित एडीजी और उनके परिवार के सदस्यों के बैंक खातों की जानकारी निकाली। उसी के बाद दावा किया गया कि उनके पिता के खातों से ही 4 करोड़ से ज्यादा का ट्रांजेक्शन हुआ है। 


Find Us on Facebook

Trending News