बहुत देर कर दी हुजूर आते-आते.... भद्द पिटने के बाद मंत्री मंगल पांडेय कोरोना अस्पताल खोलने के लिए किया निरीक्षण

बहुत देर कर दी हुजूर आते-आते.... भद्द पिटने के बाद मंत्री मंगल पांडेय कोरोना अस्पताल खोलने के लिए किया निरीक्षण

PATNA: बिहार में कोरोना ने लोग त्राहिमाम कर रहे। सरकार की मशीनरी इस आपदा में भी एक बार फिर से फेल साबित हुई। स्वास्थ्य विभाग पर से अब लोगों का विश्वास उठ सा गया है। आम लोगों का कहीं कोई इलाज नहीं हो रहा, मरीज ऑक्सीजन और बिना इलाज के मर रहे और मुख्यमंत्री- स्वास्थ्य मंत्री बड़े-बड़े दावे कर रहे। बिहार में हर बार की तरह इस बार भी आपदा आने के बाद तैयारी शुरू हो जाती है। लोग मर रहे,बिहार की भद्द पिट रही . इसके बाद स्वास्थ्य महकमे की नींद खुली है और जगह-जगह कोविड अस्पताल खोलने की खानापूर्ति की जा रही है।

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने गुरुवार को राजेन्द्रनगर स्थित अतिविशिष्ट नेत्र अस्पताल के एक भाग में बन रहे कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया। मंत्री ने तेजी दिखाते हुए पदाधिकारियों को 24 घंटे के अंदर अस्पताल शुरू करने का निर्देश दिया।मंत्री ने उपस्थित पटना की सिविल सर्जन विभा कुमारी से अस्पताल के लिए डाॅक्टर्स, पैरा मेडिकल स्टाफ सहित अन्य कर्मियों की उपलब्धता की जानकारी ली और मरीजों और उनके परिजनों को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। मंगल पांडेय ने बताया कि 18 वर्ष से 45 वर्ष तक के लोगों का टीकाकरण मुफ्त करने हेतु राज्य सरकार के द्वारा निर्णय लिया गया है, जिसके क्रियान्वयन के लिए टीका क्रय करने हेतु आवश्यक कार्यवाई की जा रही है।

     निरीक्षण के बाद मंत्री ने बताया कि राज्य में कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आई हॉस्पिटल के एक भाग को कोविड अस्पताल बनाया गया है। 24 घंटे के अंदर यहां मरीजों को भर्ती करने की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी। इस अस्पताल में 115 बेड होंगे, जिसमें 84 ऑक्सीजन युक्त होगा और 31 बेड सीसीसी होगा, जहां कोरोना मरीजों को सुविधाएं मिलेंगीं। पांडेय ने कहा कि राज्य के अस्पतालों में जहां बेडों की संख्या बढ़ायी जा रही हैं, वहीं नयी व्यवस्था भी तेजी से की जा रही है। आईजीआईएमएस में भी 100 बेड बढ़ाने का कार्य प्रगति पर है। एनएमसीएच में भी 300 बेड बढ़ाया गया है। अन्य अस्प्तालों में भी बेड बढ़ाने की दिशा में आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। इसके अलावे राज्य में ऑक्सीजन की आपूर्ति भी सामान्य हुई है। रेमडेसिविर इंजेक्शन की भी आपूिर्त एक-दो दिनों में अधिक मात्रा में होने लगेगी। 

मंगल पांडेय ने कहा स्वास्थ्य विभाग जहां कोरोना मरीजों के उपचार के लिए बेडों की संख्या के साथ-साथ अन्य सुविधाएं बढ़ा रहा है, वहीं प्रतिदिन सूबे में एक लाख से अधिक लोगों की कोरोना जांच हो रही है। सुदूर गांवों में भी स्वास्थ्य विभाग की टीम लोगों की जांच कर रही है।  अनावश्यक घर से बाहर न निकलें। मास्क को जीवन का हिस्सा समझ हमेशा मुंह पर मास्क लगायें एवं दो गज की दूरी को जरूरी समझें। स्वास्थ्य संबंधी किसी भी प्रकार की परेशानी हो तो नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र  या जांच के लिए गठित टीम द्वारा जांच अवश्य करायें।

 

Find Us on Facebook

Trending News