पीएमसीएच के बाद अब पटना के इस केंद्र का जायजा लेने पहुंचे तेजस्वी, जाना शहर के चप्पे चप्पे का हाल

पीएमसीएच के बाद अब पटना के इस केंद्र का जायजा लेने पहुंचे तेजस्वी, जाना शहर के चप्पे चप्पे का हाल

पटना. उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने नगर विकास एवं आवास विभाग अंतर्गत पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा संचालित इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का जायजा लिया. पटना में चरणबद्ध तरीके से प्रथम चरण में 2500 अत्याधुनिक कैमरों का इंस्टॉलेशन किया जा रहा है. इससे विधि व्यवस्था बनाए रखने व ट्रैफ़िक प्रबंधन में सहूलियत मिलेगी. इसी का जायजा लेने तेजस्वी यादव पहुंचे थे. बिहार पुलिस की डायल-112 सेवा को इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के साथ इंटीग्रेट कर पूर्व से लगे कैमरों की फीड की मॉनिटरिंग का कार्य प्रारंभ हो गया है. साथ ही शहर भर में कचरा उठाव एवं पटना नगर निगम की सभी ई-गवर्नेंस सेवाओं को भी डाटा सेंटर के साथ इंटीग्रेट किया गया है. 

तेजस्वी ने इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की विभिन्न व्यवस्थाओं और वहां की तकनीक सहित अन्य नियंत्रण एवं निगरानी प्रणाली की जानकारी ली. साथ ही शहर में यातायात, कचरा उठाव और किसी आपात स्थिति में किस प्रकार यह केंद्र प्रभावी है, उससे तेजस्वी अवगत हुए. राज्य में उप मुख्यमंत्री की कमान सँभालने के बाद तेजस्वी जनहित से जुडी सेवाओं और व्यवस्थाओं का आकलन करने के लिए तेजी से सक्रिय हैं. 

दरअसल, इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर एक ऐसा केंद्र है जहां से पूरे शहर की निगरानी की जा रही है. परियोजना के अंतर्गत शहर भर में करीब ढाई हजार अत्याधुनिक कैमरे लगाये जायेंगे. वर्तमान में करीब 260 कैमरे विभिन्न जगहों पर लगाए गए हैं जिनकी मॉनीटरिंग शुरू हो गयी है. धीरे-धीरे शहर भर में विभिन्न जगहों पर कुल 2588 कैमरे लगाये जायेंगे. सभी कैमरों को नेटवर्क कनेक्टिविटी उपलब्ध कराने के लिए शहर भर में कुल 220 किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर केबल लगाया जायेगा. वर्तमान में 34 किलोमीटर तक केबल बिछाने का काम पूरा हो चुका है.

इस प्रणाली के विकसित होने पर पटना में तकनीक आधारित सुरक्षा और निगरानी और बेहतर हो गई है. साथ ही शहर में किसी भी जगह पर नजर बनाए रखने के लिए यह केंद्र बेहद कारगर हैं. किसी प्रकार की अप्रिय घटना होने पर तुरंत उसकी पड़ताल में मदद मिल सकती है. इस प्रकार से यह अपराध नियंत्रण की दिशा में बेहद कारगर होगा. 

सेंटर के पहले तल पर सर्वर रूम और दूसरे तल पर मॉनिटरिंग रूम तैयार किया गया है. सर्वर रूम में शहरभर में लग रहे कैमरों की फीड को 11 पीबी क्षमता की स्टोरेज में सुरक्षित रखने की व्यवस्था की गयी है. वहीं दूसरे फ्लोर पर मॉनिटरिंग रूम है, जिसमें 11.5 × 3.5 मीटर लंबा वीडियो वॉल तैयार किया गया है. इस वीडियो वॉल में कुल 28 यूनिट स्क्रीन है जिससे शहर भर में लगे कैमरों की फीड की मॉनिटरिंग की जा रही है. वहीं, 24 ऑपरेटर के बैठने की व्यवस्था है.


Find Us on Facebook

Trending News