अरबों खर्च करने के बाद स्कूलों में नहीं मिल रही मूलभूत सुविधाएं, सासाराम में गन्दा पानी पीने को मजबूर हैं छात्र

अरबों खर्च करने के बाद स्कूलों में नहीं मिल रही मूलभूत सुविधाएं, सासाराम में गन्दा पानी पीने को मजबूर हैं छात्र

SASARAM : बच्चे देश के भविष्य होते हैं. इन्हें मौका दिया जाये तो ये देश को नयी ऊँचाइयों पर ले जा सकते हैं. इनके बेहतर भविष्य के सरकार इनकी शिक्षा पर अरबों रुपये खर्च करती है. लेकिन सरकारी लालफीताशाही के कारण इन लोगों तक सुविधाएं नहीं पहुँच पाती हैं. 

इसका ताजा उदाहरण है सासाराम में स्थित उच्च विद्यालय चौखंडी. इस विद्यालय में दो विद्यालय संचालित किये जाते हैं. लेकिन स्कूल में पढ़नेवालों छात्र-छात्राओं को पीने के पानी के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है. इस विद्यालय में मात्र एक ही चापाकल है जो कई महीनों से खराब पड़ा था. इसे काफी दिनों के बाद दुरुस्त किया गया. लेकिन अब इस चापाकल से गन्दा पानी आता है. यहीं पानी पीने के लिए छात्र मजबूर हैं. बताते चलें की दोनों विद्यालय मिलाकर इस स्कूल में 2 हज़ार से अधिक बच्चे हैं. इसके अलावा 40 शिक्षक भी हैं. 

एक चापाकल पर इतने लोगों का बोझ है. इससे पीने के पानी की स्थिति समझी जा सकती है. मजबूरन बच्चों को पीने के पानी के लिए स्कूल के बाहर जाना पड़ता है. कई बच्चे पानी अपने घर से ही लेकर आते हैं. कई बच्चे इस चापाकल का पानी पीकर बीमार भी पड़ चुके हैं. अभी गर्मी का मौसम चल रहा है. भीषण गर्मी से बच्चे बेहाल हो जाते हैं. ऐसे में उन्हें काफी परेशानियों से गुजरना पड़ता है. 

सासाराम से राजू की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News