पति के निधन के बाद ससुर और देवर की थी गलत नजर, जब किया विरोध तो विधवा और उसके बेटे को घर से निकाला

पति के निधन के बाद ससुर और देवर की थी गलत नजर, जब किया विरोध तो विधवा और उसके बेटे को घर से निकाला

SHEIKHPURA : सरकार बेटियों को बचाने और बेटियों को पढ़ाने के लिए लाख जतन कर ले लेकिन समाज में बेटियों पर अत्याचार कम होने का नाम नहीं ले रहा है. बरबीघा नगर परिषद क्षेत्र के नसीबचक मोहल्ला में भी शुक्रवार को ससुराल वालों ने विधवा बहू को मारपीट कर घर से बेहोशी की अवस्था में बाहर कर दिया. महिला घंटों बेहोशी की अवस्था में सड़क पर पड़ी रही और मोहल्ले के लोग तमाशा देखते रहे। इस दौरान किसी ने महिला के माता-पिता को फोन पर सूचना दी.सूचना पाकर पहुंचे महिला के माता पिता ने उसे बरबीघा रेफरल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया.


पीड़ित महिला प्रतिमा देवी ने बताया कि उसके ससुर सुरेश साव और देवर आशीष गुप्ता की हमेशा उसके ऊपर गलत नजर रहती है. शुक्रवार की अहले सुबह भी देवर महिला के कमरे में जबरन घुस गया और छेड़छाड़ करने लगा. जब महिला ने विरोध किया तो देवर आशीष कुमार उसे बाल से घसीटते हुए कमरे से बाहर ले आया और अपने मां और पत्नी के साथ मारपीट करने लगा. इतने में बाहर से ससुर भी आ गए और वह भी मारपीट करने लगे. बेरहमी से मारपीट के दौरान जब महिला बेहोश हो गई तो उसे घर से बाहर सड़क पर ले जा कर फेंक दिया. महिला ने बताया कि अक्सर मध्य रात्रि में उसके ससुर और देवर उनके रूम के दरवाजे को खटखटाते रहते हैं.अक्सर रात्रि में कमरे में घुसने का जबरन प्रयास करते हैं.विरोध करने पर मारपीट किया जाता है.

पीड़िता के पिता दामोदर प्रसाद ने बताया कि 2008 में उसने अपनी पुत्री की शादी किशोरी साव के बड़े पुत्र से की थी. एक वर्ष पूर्व हर्ट अटैक से उनके दामाद की मृत्यु हो गई है.तब से उनकी पुत्री को ससुराल में प्रताड़ित किया जा रहा है.पीड़िता को दो बच्चे भी हैं. बड़ा बच्चा चिराग कुमार अपने नाना के साथ रहता है जबकि छोटा बच्चा 4 वर्षीय विष्णु कुमार अपनी मां के साथ रहता है.पीड़िता के पिता ने कहा कि वे मामले को लेकर महिला थाना में प्राथमिकी भी दर्ज करवाएंगे

Find Us on Facebook

Trending News