नवादा में प्रसूता की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने फर्जी नर्सिंग होम को किया सील, झोला छाप डॉक्टरों में मचा हड़कंप

नवादा में प्रसूता की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने फर्जी नर्सिंग होम को किया सील, झोला छाप डॉक्टरों में मचा हड़कंप

नवादा. कौआकोल रविवार की देर शाम प्रखण्ड के रानी बाजार में अवैध ढंग से चल रहे सारनाथ हॉस्पिटल प्रा. लि. में झोलाछाप चिकित्सक डॉ. अनुज कुमार की लापरवाही एवं गलत ढंग से ऑपरेशन करने से प्रसूता की मौत की घटना के बाद मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया। नवादा डीएम उदिता सिंह एवं सिविल सर्जन डॉ. निर्मला कुमारी के आदेश पर गठित तीन सदस्यीय चिकित्सकों की जांच टीम ने मंगलवार को कौआकोल में औचक छापेमारी की। 

इस दौरान जांच टीम में शामिल नवादा के अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. बिनोद प्रसाद सिन्हा, सहायक अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. बृज बिहारी सिंह एवं कौआकोल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अमित कुमार की टीम ने कौआकोल में अवैध ढंग से चल रहे दो निजी क्लीनिक को मंगलवार को सील कर दिया गया। अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि नवादा सिविल सर्जन के आदेश पर सबसे पहले कौआकोल आश्रम रोड में अवैध ढंग से संचालित ममतामयी इमरजेंसी हॉस्पिटल में औचक छापेमारी की गयी। 

छापेमारी के दौरान जांच टीम भौचक रह गई। हॉस्पीटल के अंदर मरीजों के लिए पन्द्रह बेड बनाकर रखे गए थे। सात मरीज बेड पर भर्ती पाए गए। जिसमें चार प्रसूता को ऑपरेशन के बाद बेड पर रखा गया था। इनमें तीन मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य लाभ के लिए सदर अस्पताल नवादा रेफर किया गया। वहीं एक अन्य मरीज का ऑपरेशन के बाद सात दिन पूरे हो जाने के बाद स्वास्थ्य जांच के बाद उसे डिस्चार्ज किया गया, जबकि तीन अन्य मरीजों को इलाज के लिए वहां से रेफर कर कौआकोल पीएचसी में भर्ती किया गया।

एसीएमओ ने बताया कि छापेमारी के दौरान अवैध ढंग से संचालित इस अस्पताल में सहायक के रूप में काम कर रही कौआकोल पीएचसी में कार्यरत ममता जोगाचक गांव निवासी आशा देवी को तथा अस्पताल में ही संचालित मेडिकल दुकान के एक कर्मी पकरीबरावां थाना क्षेत्र के छोटकी गुलनी निवासी मोहम्मद सिकन्दर आजाद को मौके पर से गिरफ्तार कर हिरासत में लेकर थाना भेज दिया गया, जबकि छापेमारी की भनक लगते ही अस्पताल का संचालक व चोंगवा गांव निवासी मोहम्मद इफरान फरार हो गया।

अस्पताल में 4 ऑक्सीजन सिलेंडर, एक ऑपरेशन टेबल, काफी मात्रा में दवाई तथा अस्पताल के अंदर परिसर में रखे पांच बाइक समेत अन्य सामग्री को अधिकारियों द्वारा सील कर दिया गया। इसके बाद अधिकारियों की टीम ने रानी बाजार में सारनाथ हॉस्पिटल प्रा. लि. को सील किया। मौके पर कौआकोल थाना के एएसआई अंजनी कुमार, स्वास्थ्य प्रबंधक रविचंद्र प्रसाद, सदर अस्पताल नवादा के राजीव कुमार, कौआकोल पीएचसी के शैलेश कुमार मौजूद थे।


Find Us on Facebook

Trending News