अमित शाह से मुलाकात के बाद भूपेंद्र यादव, डॉ. सीपी ठाकुर और सच्चिदानंद राय करेंगे ज्वाइंट पीसी, परंपरागत वोटरों के जख्म पर मरहम लगाने की होगी कोशिश

अमित शाह से मुलाकात के बाद भूपेंद्र यादव, डॉ. सीपी ठाकुर और सच्चिदानंद राय करेंगे ज्वाइंट पीसी, परंपरागत वोटरों के जख्म पर मरहम लगाने की होगी कोशिश

PATNA : राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद डॉ. सी.पी.ठाकुर, बिहार प्रभारी भूपेंद्र् यादव और एमएलसी सच्चिदानंद राय आज शाम पटना में पीसी करेंगे। ऐसे कयास लगाए जा रहे है कि पीसी के दौरान दोनों नेता बिहार के नाराज परंपरागत वोटरों की नाराजगी दूर करने और जख्म पर मरहम लगाने की कोशिश करेंगे। 

बता दें कि बिहार के लोकसभा चुनाव में भूमिहार जाति से सिर्फ एक गिरिराज सिंह को बीजेपी ने प्रत्याशी बनाया है। जिसके बाद से बीजेपी के सबसे ज्यादा परंपरागत वोटर और समर्थक माने जाने वाले भूमिहार समाज में इस बात को लेकर भारी नाराजगी व्याप्त है। इसे लेकर बिहार बीजेपी के कई नेताओं ने बगावत कर दिया है। 

पार्टी के अंदर मचे घमासान के बाद अब इस समाज को मनाने की कवायद बीजेपी की ओर से तेज हो गई है। इसी कड़ी में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बिहार के नाराज नेताओं से मुलाकात की है। केंद्रीय नेतृत्व ने बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता डॉ. सीपी ठाकुर को गुरूवार की रात ही दिल्ली बुलाया था। वे रात मे ही दिल्ली पहुंच गए थे, लेकिन रात में मुलाकात नही हो सकी थी। इसके बाद आज सीपी ठाकुर नें अमित शाह से मुलाकात की है।

सीपी ठाकुर ने अमित शाह के समक्ष टिकट बंटवारे में भुमिहार समाज की उपेक्षा के बाद उपजी नाराजगी को बताया। शाह से मुलाकात के बाद सीपी ठाकुर ने बताया कि उन्होनें राष्ट्रीय अध्यक्ष से बिहार की वस्तु स्थिति से अवगत करा दिया है।इसके पहले अमित शाह नें पार्टी के एमएलसी सच्चिदानंद राय और बागी सांसद सतीश चंद्र दूबे से भी मुलाकात की थी और बिहार के हालात पर चर्चा की थी।

भूमिहार-ब्रह्मण वोटरों के नाराजगी की खबर के बाद सक्रिय हुआ है केन्द्रीय नेतृत्व

बता दें कि भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ सीपी ठाकुर,एमएलसी सच्चिदानंद राय सहित कई नेताओं नें खुलेयाम कहा था कि बीजेपी नें   अपनें परंपरागत वोटरों को टिकट देनें में दरकिनार कर दिया।जिससे टिकट देने से भूमिहार समाज नाराज है ।सीपी ठाकुर और सच्चिदानंद राय के इस सार्वजनिक बयान के बाद पार्टी नेतृत्व सक्रिय हो गया है।राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह नें पहले बागी नेता सच्चिदानंद राय और सतीशचंद्र दूबे से बात की ।उसके बाद वरिष्ठ नेता सीपी ठाकुर को दिल्ली बुलाया और उसे बात की है। 

दरअसल  बीजेपी में   टिकट देने में दरकिनार किए जाने के बाद से कई इलाकों में इस समाज के लोग खुलेआम  बीजेपी के विरोध में उतर आए हैं । कई नेता तो स्पष्ट तौर पर  बीजेपी की बगावत में या यूं कहें कि बीजेपी से बागी हो गए हैं । कई इलाकों में  इस समाज के लोग बीजेपी को सबक सिखाने को लेकर गोलबंद भी होने लगे हैं । बीजेपी के विधान पार्षद सच्चिदानंद राय ने तो  टिकट देने में भूमिहार समाज की उपेक्षा की वजह से पार्टी से बगावत कर दिया है और महाराजगंज सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान भी कर दिया है। उन्होंने तो यहां तक कह दिया है कि वह वैसे इलाकेजहां भूमिहार ब्राह्मणों की आबादी है वहां पर उम्मीदवार खड़ा करके बीजेपी और एनडीए गठबंधन को हराने का काम करेंगे।

इसी तरह सांसद सतीश चंद्र दूबे ने भी बागी तेवर अख्तियार करते हुए बाल्मिकीनगर लोकसभा से चुनाव लड़ने की बात कह बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व के पेशानी पर बल ला दिया है। बागी नेताओं की बढ़ती संख्या और अपने परंपरागत वोटरों की नाराजगी के बाद हरकत में आए बीजेपी नेताओं ने डैमेज कंट्रोल की भरसक कोशिश की है। सच्चिदानन्द राय सरीखे बागी नेताओं को मनाने का सिलसिला भी जारी है।साथ ही इस समाज से जुड़े कई नेताओं को पार्टी में जॉइनिंग भी कराई गई है। बावजूद इसके अभी भी बीजेपी के प्रति इस समाज के लोगों में भारी नाराजगी देखी जा रही है ।

इसी कड़ी में  बीजेपी के वरिष्ठ नेता सीपी ठाकुर पिछले दो दिनों में खुलकर अपनी पीड़ा का इजहार कर चुके हैं । वे कह रहे हैं कि भूमिहार समाज को सिर्फ एक टिकट दिए जाने से  बीजेपी के प्रति गहरी नाराजगी है। हालांकि कल उन्होंने अपने नेताओं और समाज के वोटरों को भरोसा भी दिया था। उन्होंने कहा था कि इस नाराजगी को दूर करने की कोशिश की जाएगी।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News