बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

LATEST NEWS

गदर-2 की सफलता के बाद सन्नी देओल ने किया बड़ा ऐलान, कहा- नहीं लड़ूंगा लोकसभा चुनाव, जानें क्यों लिया गया बड़ा फैसला

गदर-2 की सफलता के बाद सन्नी देओल ने किया बड़ा ऐलान, कहा- नहीं लड़ूंगा लोकसभा चुनाव, जानें क्यों लिया गया बड़ा फैसला

DESK : अभिनेता सन्नी देओल की फिल्म गदर-2 400 करोड़ रुपए कमाने के करीब पहुंच चुकी है। जिसके बाद लोग उन्हें फिर से कुछ और बड़ी फिल्मों में देखना चाहते हैं। वहीं फिल्म की सक्सेस के बाद अब सन्नी देओल ने एक बड़ी घोषणा कर दी है। सन्नी देओल ने कहा कि वह 2024 में लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। एक चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि उन्होंने कहा कि अभिनेता बने रहना ही मेरा चुनाव है. मुझे लगता है कि मैं बतौर एक्टर देश सेवा करूं, जो मैं करता आ रहा था. उन्होंने कहा कि आप कोई भी एक काम ही कर सकते हैं. एक साथ कई सारे काम करना असंभव है. मैं जिस सोच के साथ राजनीति में आया था, वो सारे काम मैं बतौर अभिनेता रहते हुए भी कर सकता हूं। बता दें कि सन्नी देओल वर्तमान में पंजाब के गुरुदासपुर से सांसद है। 

राजनीति में हुआ नाकाम

सन्नी देओल ने यह माना कि राजनीति में नाकाम साबित हो रहे हैं। उनकी संसद में उपस्थिति सिर्फ 19 फीसदी है। सांसद ने कहा कि जब मैं संसद जाता हूं तो देखता हूं कि यहां देश चलाने वाले लोग बैठे हैं, सभी पार्टियों के नेता बैठे हैं. लेकिन यहां कैसा व्यवहार करते हैं, जबकि हम दूसरे लोगों से कहते हैं कि ऐसा व्यहार मत करो। उन्होंने कहा कि जब में ये देखता हूं तो लगता है कि मैं ऐसा नहीं हूं, इससे बेहतर तो ये है कि मैं कहीं और ही चला जाऊं। सनी ने कहा कि एक्टिंग की दुनिया में मेरा जो दिल करे, वो मैं कर सकता हूं. लेकिन राजनीति में अगर मैं कुछ कमिट कर दूं औऱ उसे पूरा न कर पाऊं, तो मुझसे वह बर्दाश्त नहीं होता है. मैं ऐसा नहीं कर सकता।

फिल्म अभिनेता सन्नी देओल ने साल 2019 में अपने राजोनीतिक सफर का आगाज किया था, सनी ने साल 2019 के आम चुनाव में पंजाब के गुरदासपुर लोकसभा सीट से किस्मत आजमाई और जनता ने भी उन्हें निराश नहीं किया। गुरदासपुर की जनता ने 84 हजार वोट से अधिक के अंतर से भारी विजय का आशीर्वाद देकर सनी देओल को लोकसभा में भेजा था।

संसदीय क्षेत्र में भी बढ़ रही नाराजगी

सनी देओल ने चुनाव प्रचार के दौरान लोकसभा क्षेत्र की जनता से बड़े-बड़े वादे भी किए लेकिन वादे पूरे करना तो दूर, वे जीत के बाद पलटकर गुरदासपुर नहीं गए. इसे लेकर जनता में आक्रोश बढ़ रहा है। सनी देओल के क्षेत्र से लगातार गायब रहने और लोकसभा से भी नदारद रहने को अब विरोधी भी मुद्दा बनाने लगे हैं. पिछले दिनों लोगों ने उनके खिलाफ गुरुदासपुर में प्रदर्शन भी किया था।

पिता धर्मेंद्र भी एक बार चुनाव लड़ने के बाद राजनीति से दूर

सन्नी देओल की तरह उनके पिता धर्मेंद्र को भी बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में मौका दिया था। उन्हें राजस्थान के बीकानेर सीट से प्रत्याशी बनाया गया था। धर्मेंद्र चुनाव जीतकर संसद भी पहुंच गए थे। लेकिन पांच साल में ही उन्हें इस बात का  एहसास हो गया कि वह राजनीति के लिए बने हैं। जिसके बाद उन्होंने दोबारा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया था। हालांकि उनकी पत्नी हेमा मालिनी अभी मथुरा से सांसद हैं।


Suggested News