ट्विटर के बाद अब बिहार की राजनीति में लेटर बम, लालू-तेजस्वी के चिट्टी का जदयू ने दिया कुछ ऐसा जवाब

ट्विटर के बाद अब बिहार की राजनीति में लेटर बम, लालू-तेजस्वी के चिट्टी का जदयू ने दिया कुछ ऐसा जवाब

PATNA : बिहार की राजनीति में अब सोशल मीडिया के बाद पत्र के माध्यम से जंग छिड़ गया है। नेता अपने विरोधियों पर पत्र लेटर बम के माध्यम से हमला करने में जुटे है। राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद और उनके छोटे बेटे बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीएम पर चिट्टी के जरिए हमला बोला है। इधर उनके इस हमले का जवाब जदयू द्वारा भी चिट्टी के माध्यम से दिया गया है। 

जदयू विधान पार्षद व प्रदेश प्रवक्ता नीरज कुमार ने लालू प्रसाद को खुला पत्र लिखते हुए कहा है आप तो राजकोष के खजाना लूट जैसे घृणित कार्य करने के लिए आप जेल चले गए परंतु आपके चरवाहा स्कूल का प्रभाव आपके पुत्र पर पड़ गया। आपने पुत्र को ज्ञान नही दिया परन्तु आपके पुत्र अपने 'ज्ञान का आतंक' फैला रहे हैं। आपने अपने छोटे पुत्र को उच्च शिक्षा तो नहीं ही दी, राजनीति में भी अधर में छोडकर चले गए और आपके पुत्र के बयान के कारण जगहंसाई हो रही है।

आपके पुत्र आज कह रहे हैं कि बिहार की सडको और बिजली के लिए यूपीए के समय ही काम हुए थे। पूरे देश क्या दुनिया को राजद के शासनकाल में बिहार में सड़क और बिजली की स्थिति का पता है, अब ऐसे बयानों से जगहंसाई हो रही है। अगर ऐसा है तो उन्हें राजद के शासनकाल में सड़कों और बिजली का आंकड़ा जारी करें।

मुजफ्फरपुर कांड में बिहार सरकार ने ही सीबीआई जांच की अनुशंसा की है। इसके बाद भी अगर आपके पुत्र के पास सबूत है, तो इन्हें सर्वोच्च न्यायालय में जाकर सबूत देना चाहिए। वैसे, आपके पुत्र तो महिला अपमान में’आईकॉन’ रहे हैं। विधायक राजबल्लभ यादव अदालत द्वारा नाबालिग के साथ दुष्कर्म के मामले में सजा काट रहे हैं, परंतु इसे भी अब तक पार्टी से नहीं निकाला गया जबकि उनके परिवार के सदस्य को राजनीतिक रूप से आपके द्वारा नवादा से टिकट देकर पुरस्कृत किया गया।  आपके पुत्र अनैतिक देह व्यापार अधिनियम के आरोपी को तो पीए बनाकर रखे हैं और दूसरे के लिए प्रवचन दे रहे।

वैसे, ’लालटेन’ के विषय में आप किसे बताना चाह रहे हैं? चुनाव के अंतिम चरण के पहले ’लालटेन’ के विषय में आप महागठबंधन के घटक दलों को बताना चाहते हैं कि राजग को। लालटेन अब बिहार की जनता भूल चुकी है। आप लालटेन से फिर उसी दौर में बिहार को क्यों ले जाना चाहते हैं, जहां से बड़ी मुश्किल से बिहार निकला है। आपके लालटेन से भ्रष्टाचार, नरसंहार, फिरौती के लिए अपहरण ही तो बिहार में आएगा।

अब देखिए ना आपके पुत्र आपको जेल जाने के लिए दूसरे को दोष दे रहे है। आप तो अदालत के आदेश से जेल में हैं। अगर माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी पर आपके पुत्र आरोप लगा रहे है, तो फिर आप जमानत के लिए इतने व्यग्र क्यों है?

मेरा निवेदन है कि आप अपने पुत्र को जेल में ही बुलाकर कुछ सिखा देते, तो उनके बयानों पर आपकी भी जगहंसाई नहीं होती।

आपका

नीरज कुमार, जद (यू) प्रवक्ता

कुंदन की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News