जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का एजेंडा तय, केंद्र के खिलाफ विपक्ष की एकजुटता के लिए बनाई जाएगी रणनीति

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का एजेंडा तय, केंद्र के खिलाफ विपक्ष की एकजुटता के लिए बनाई जाएगी रणनीति

PATNA : शनिवार से राजधानी पटना में जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी व राष्ट्रीय परिषद की दो दिवसीय बैठक होनी  है। इस बैठक को लेकर एजेंडा लगभग तय हो गया है। माना जा रहा है कि इस बैठक में राष्ट्रीय स्तर पर विपक्ष की एकजुटता पर भी चर्चा-सहमति हो सकती है। इसके अलावा बैठक में संगठनात्मक चुनाव पर विचार-विमर्श होगा।

मिल सकता है नया प्रदेश अध्यक्ष

जदयू में पहले प्रदेश स्तर पर संगठनात्मक चुनाव की प्रक्रिया पूरी की जाएगी और उसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर चुनाव होना है। संगठनात्मक चुनाव के क्रम में यह तय हो सकता है कि प्रदेश जदयू की कमान आने वाले समय में किसके पास रहेगी। हालांकि इस बात की संभावना कम है नए प्रदेश अध्यक्ष के लिए चुनाव की स्थिति उत्पन्न होगी। पार्टी में अब तक परंपरा यह रही है कि जदयू के प्रदेश अध्यक्ष सर्वसम्मति से तय होते रहे हैं। जिस वक्त वशिष्ठ नारायण सिंह की जगह जदयू ने अपने नए प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा को चुना था, उस समय भी सर्वसम्मति से ही नाम तय हुआ था।

केंद्र के चुनावी वादों पर होगा फोकस

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में जिन मुद्दों पर चर्चा होनी है, उनमें दूसरा महत्वपूर्ण विषय राष्ट्रीय स्तर पर वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य है। इस क्रम में देश के स्तर पर विपक्ष की एकजुटता पर भी विचार-विमर्श होना है। केंद्र की एनडीए सरकार ने चुनाव के समय जो वादे किए थे उनके अनुपालन को लेकर किस तरह की सक्रियता है, यह भी विमर्श का विषय होगा। 

बेरोजगारी का मुद्दा 

देश की आर्थिक स्थिति, युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने से जुड़े आंकड़े व किसानों की दशा आदि पर भी चर्चा होगी। मंहगाई के कारण उत्पन्न स्थिति पर आम लोगों की आवाज को कैसे मुखर किया जाए, इस पर भी  राष्ट्रीय कार्यकारिणी में प्रस्ताव लिया जा सकता है। 

विपक्षी एकजुटता भी होगा विचार-विमर्श

विपक्ष की एकजुटता भी विचार-विमर्श का एक प्रमुख विषय होगा। हाल ही में नीतीश कुमार ने राजग से अलग होकर महागठबंधन के साथ सरकार बनाई है। उन्होंने देश के स्तर पर विपक्ष की एकजुटता की बात की है। इसके लिए स्वयं के सक्रिय होने पर भी बात कही है। 

इसलिए यह तय है कि जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में इस विषय पर विचार-विमर्श होगा। यह भी तय होगा कि किस मोड में जदयू विपक्ष की एकजुटता को लेकर आगे बढ़े। जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी इस निर्णय पर भी अपनी मुहर लगाएगी, जिसके तहत जदयू ने अपने को राजग से अलग कर महागठबंधन की राह पकड़ी है।



Find Us on Facebook

Trending News