चचेरे भाई ने रची 5 साल के रवि के अपहरण की साजिश, भागलपुर पुलिस ने कराई सकुशल रिहाई

चचेरे भाई ने रची 5 साल के रवि के अपहरण की साजिश, भागलपुर पुलिस ने कराई सकुशल रिहाई

BHAGALPUR : बच्चों से जुड़े अपराध के मामलों में किसी करीबी के ही शामिल होने के ज्यादातर घटनाएँ सामने आ रही हैं. भागलपुर में भी ऐसा ही मामला सामने आया है. जिले के लोदीपुर स्थित अगरपुर गांव से अगवा किये गए 5 साल के बच्चे का केस भागलपुर पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था. 15 अगस्त की शाम को अपराधियों ने पांच साल के बच्चे रवि किशन को अगवा कर लिया था जिसके बाद भागलपुर पुलिस लगातार अपराधियों की तलाश कर रही थी. आखिरकार भागलपुर पुलिस को इसमें सफलता मिली है. उसने अपहृत रवि को बांका जिले के चैनपुर गांव से सकुशल रिहा करा लिया है. पुलिस की कार्रवाई में पांच अपराधियों की भी गिरफ्तारी हुई है. 

अपहरणकर्ताओं ने मांगी थी 3 लाख फिरौती

रवि किशन को अगवा करने के बाद अपहरणकर्ताओं ने परिजनों ने तीन लाख की फिरौती मांगी. इधर भागलपुर एसएसपी आशीष भारती ने अगवा करने वाले गिरोह को ट्रैक करने के लिए मोबाइल सर्विलांस से लेकर अपने मुखबिरों तक को अलर्ट किया. इसी का नतीजा रहा की बांका से रवि की सकुशल रिहा करा लिया गया. इस पुरे मामले में पुलिस के लिए सबसे चौकाने वाली यह थी की रवि का पिता पेशे से राज मिस्त्री का काम करता है. अपहरणकर्ताओं ने एक तो अगवा करने के लिए रवि को ही क्यूँ चुना और दुसरे उसके परिजनों की हैसियत देखकर फिरौती की कम रकम की मांग क्यों रखी. पुलिस को समझते देर नहीं लगी रवि को अगवा करने वाला उसके परिवार के बैकग्राउंड को अच्छे से समझ रहा है. फिर क्या था.. रवि के परिवार के करीबियों की गतिविधियों पर पुलिस ने जाँच शुरू की और पूरा मामला सामने आ गया. दरअसल रवि को उसका चचेरा भाई राजेश मेला दिखाने के बहाने अपने साथ ले गया था और उसने ही चार अन्य लोगों के मिलकर अपहरण की घटना को अंजाम दिया. राजेश पर किसी को शक ना हो इसलिए उसने रवि को अन्य साथियों के पास छोड़कर घर आकर रवि की मां से ही उसके बारे में पूछताछ शुरू की. राजेश के पूछने पर ही परिवार वालों को यह मालूम पड़ा की रवि लापता है. बाद में राजेश ने ही खुद परिवार वालों को यह सूचना भी दी की अपहरणकर्ता फिरौती की रकम मांग रहे हैं. 



Find Us on Facebook

Trending News