पूर्व सांसद आर के सिन्हा के कृषि कार्यक्रम में पहुंचे कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मल्टीलेयर फार्मिंग की जमकर की सराहना

पूर्व सांसद आर के सिन्हा के कृषि कार्यक्रम में पहुंचे कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मल्टीलेयर फार्मिंग की जमकर की सराहना

PATNA : जैविक मेन के नाम से प्रसिद्ध पूर्व सांसद आर के सिन्हा के द्वारा आयोजित कृषि कार्यक्रम में आज कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पहुंचे। इस मौके पर उन्होंने आरके सिन्हा द्वारा आयोजित मल्टीलेयर फार्मिंग से होने वाले किसानों की आय वृद्धि की प्रशंसा की। वहीँ “पानी कृषि के लिये आवश्यक तत्व है। जिस प्रकार पानी की कमी भयंकर रूप से बढ़ रही है। हम पानी के बिना भी कृषि की कल्पना कर सकते हैं? लेकिन, यदि हम एक साथ, एक ही भूमि पर पाँच फसलें एक साथ उगायें, तो पाँच फसलों का कुल खाद, कीटनाशक, ग्रोथ प्रमोटर का इनपुट एक फसल के इनपुट से भी कम होता है। पानी तो 30% से भी कम लगता है।” ये बातें जैविक कृषि वैज्ञानिक सागर, मध्य प्रदेश निवासी आकाश चौरसिया ने मल्टी लेयर फ़ार्मिंग के प्रशिक्षण कार्यक्रम के पाँचवें दिन कही।

आज के कार्यक्रम की मुख्य विशेषता रही भारत सरकार के कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का प्रशिक्षण कार्यक्रम में आगमन। कृषि मंत्री ने अपने व्यस्त कार्यक्रमों में से एक घंटे से भी ज्यादा समय निकालकर प्रशिक्षणार्थियों से बात की और मल्टीलेयर फार्मिंग से होने वाले किसानों की आय वृद्धि की प्रशंसा की। तोमर ने कहा कि एक ही भूमि पर पांच फसलें उगाने की सोच अद्भुत है। बढती आबादी और मजदूरी, सिकुडती और छोटी होती हुई पारिवारिक जोत के बीच मल्टीलेयर फार्मिंग एक आशा की किरण की तरह ही है। उन्होने आकाश चौरसिया के प्रयासों की भूरी- भूरी प्रशंसा की। दोस्तपुर- मॅंगरौली और छपरौली गांवों के ग्राम प्रधानों ने मंत्री का स्वागत किया और किसानों के हित में कृषि कानूनों की प्रशॅंसा की।

महिला और बाल विकास मंत्रालय की विशेष सचिव एवं निदेशक आईएएस रश्मि सिंह ने कहा कि “कृषि ही देश में महिलाओं की आजीविका का प्रमुख साधन है। छोटी सी जगह में ऐसा पैदावार करना जिससे पूरे साल किसानों को ख़ासकर महिलाओं को कुछ न कुछ पूरे साल आर्थिक लाभ होता रहे, यह अत्यंत ही सुखद परिकल्पना है।”

उत्तर प्रदेश के अवकाश प्राप्त प्रमुख चीफ़ कोनज़र्वेटर ओफ़ फ़ारेस्ट आर॰के॰ सिंह जैव विविधता की चर्चा करते हुये कहा कि “प्रकृति तो अपना श्रृंगार स्वयं तय करती है। यह यदि समझ लेंगे तो जैव विविधता को समझ लेंगे। जैव विविधता से ही सही ढंग की की प्राकृतिक कृषि सम्भव है।”कार्यक्रम में ग्रामीण विकास मंत्रालय के राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के राष्ट्रीय प्रबंधक राजीत सिन्हा ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

Find Us on Facebook

Trending News