अपराधियों के साथ-साथ बाघ भी कर रहे आम लोगों का शिकार, वीटीआर में युवक को घसीटते हुए ले गया जंगल के अंदर

अपराधियों के साथ-साथ बाघ भी कर रहे आम लोगों का शिकार, वीटीआर में युवक को घसीटते हुए ले गया जंगल के अंदर

BAGHA : बिहार में अपराधी तो बेलगाम हो ही रहे हैं। बाघ भी अब जंगल से बाहर आकर ग्रामीण इलाकों में अपना शिकार  करने लगे हैं। मामला बेतिया के वाल्मिकी टाइगर रिजर्व (Valmiki Tiger Reserve in Bagaha)  से जुड़ा हुआ है। जहां एक आदमखोर बाघ ने युवक पर हमला कर दिया और उसे घसीटते हुए जंगल की तरफ ले गया। बाघ के इस हमले के बाद अब इस इलाके के लोगों में भय व्याप्त हो गया है और वन विभाग से अपनी सुरक्षा की मांग की है। 

मामला वीटीआर से सटे हरनाटांड़ अंतर्गत बैरिया काला इलाके से जुड़ा है, जहां बरवा गांव का युवक खेत में मजदूरी करने गया था, तभी अचानक बाघ जंगल की तरफ से आया और उसे घसीट कर वापस जंगल में लेकर चला गया. जिसके बाद वहां काम कर रहे अन्य मजदूर भयभीत होकर भागने लगे और इसकी जानकारी ग्रामीणों को दी। 

बता दें कि इस गांव में बाघ द्वारा यह तीसरा शिकार है. 10 दिन पूर्व ही इसी गांव के खेत में सोहनी करने गई महिला को बाघ ने मार डाला था. इसके पूर्व एक बुजुर्ग को भी बाघ ने अपना शिकार बनाया था। लगातार बाघों के हमले से अब आदिवासी बहुल इलाके के लोग काफी भयभीत और डरे सहमे हैं।

बहरहाल ग्रामीण वन विभाग के खिलाफ आक्रोशित हैं और अपनी सुरक्षा को लेकर उन्होंने पिछले हफ्ते हरनाटांड़ वन कार्यालय का घेराव किया था और महिला के शव के साथ प्रदर्शन भी किया था. लोगों के प्रदर्शन के बाद वन विभाग इस इलाके में टाइगर टेकर्स की तीन टीमें बनाकर 24 घण्टे गश्ती करवा रही है. बावजूद इसके आदमखोर बाघ पर कंट्रोल पाना मुश्किल हो गया है. अब देखना है कि, वन विभाग की टीम गांव में कब पहुंचती है और युवक का शव मिलता भी है या नहीं.


Find Us on Facebook

Trending News