कड़ी सुरक्षा के बीच अमरनाथ यात्रा की हुई शुरुआत, बम-बम भोले के नारे के साथ रवाना हुआ पहला जत्था

कड़ी सुरक्षा के बीच अमरनाथ यात्रा की हुई शुरुआत, बम-बम भोले के नारे के साथ रवाना हुआ पहला जत्था

NEWS4NATION DESK : बम-बम भोले के नारे के साथ आज सुबह जम्मू बेस कैंप से अमरनाथ यात्रियों का पहला जत्था रवाना हो गया। बम भोले के नारों के बीच श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए निकल पड़े। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार केके शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर यात्रियों को रवाना किया। 

अमरनाथ यात्रा के पहले जत्थे में 793 पुरुष, 203 महिलाएं, 10 बच्चे, 44 पुरुष साधु, एक महिला साधु शामिल हैं। इस जत्थे में कुल 1051 श्रद्धालु यात्रा पर निकले हैं। यह बालटाल यात्रा का विवरण है। उधर पहलगाम से भी एक जत्था रवाना हुआ है जिसमें 1046 पुरुष, 130 महिलाएं और 7 बच्चे शामिल हैं। इसमें कोई साधु नहीं है। पहलगाम से निकले जत्थे में कुल यात्रियों की संख्या 1183 है।

वहीं यात्रा पर निकले श्रद्धालुओं ने कहामकि उन्हें किसी खतरे का डर नहीं है. यात्रियों ने कहा कि उन्हें भगवान शिव और सेना पर पूरा भरोसा है। यात्रा के पूरे मार्ग पर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं. सुरक्षा बलों ने चप्पे पर कड़ी निगरानी रखी है और हर आने जाने वाले लोगों की गहन जांच की जा रही है। 

पिछले दिनों केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने अमरनाथ गुफा में बाबा बर्फानी के दर्शन करने के बाद अपने दो दिन का जम्मू कश्मीर दौरा शुरू किया था और सुरक्षा स्थितियों का जायजा लिया था। 

सूत्रों के मुताबिक आतंकी अमरनाथ यात्रा के दौरान फिदायीन हमले की कोशिश कर सकते हैं। सूत्र बताते हैं कि जैश और लश्कर आतंकियों के साथ साथ छोटे छोटे पाकिस्तान परस्त आतंकी संगठन जैसे अल बद्र अल उमर मुजाहिदीन और अंसार गजवतुल हिंद  के जरिये सुरक्षा एजेंसियों को चकमा देकर अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा में लगे सुरक्षा बलों पर और यात्रा कॉनवॉय पर हमला करवा सकते हैं।

इस खतरे को पहले से ही भांपते हुए सुरक्षा बलों और गृह मंत्रालय ने इस साल अमरनाथ यात्रा को लेकर कड़े सुरक्षा के प्लान तैयार कर लिए हैं। मिली जानकारी के अनुसार इस बार की अमरनाथ यात्रा में 350 से ज्यादा अर्द्ध सैनिक बलों की कंपनियां सुरक्षा में तैनात तैनात की गई हैं। 

वहीं इस साल पहलगाम और बालटाल दोनों रूट पर आरओपी (रोड ओपनिंग पार्टी) और एंटी सैबोटाज टीम की संख्या बढ़ाई गई है। यात्रा रूट पर आईईडी (IED)के खतरे को देखते हुए बम निरोधक दस्ता (BDT) टीम की संख्या दो गुनी की गई है. साथ ही 40 ऐसे नए एक्सपर्ट को लगाया जा रहा है जिन्होंने हाल ही में आईईडी से निपटने की खास ट्रेंनिग ली है। यात्रा रूट पर CCTV कैमरा और ड्रोन की संख्या दो गुनी की गई है। आरएफ ट्रेगिंग के लिए ज्यादा संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया किया गया है। साथ ही हर प्राईवेट गाड़ी का भी आरएफ टैगिंग किया जाएगा.

सूत्रों के मुताबिक गृह मंत्रालय ने अमरनाथ यात्रा को ज्यादा हाईटेक करने के लिए 55 करोड़ रुपए अतिरिक्त दिए हैं। पहलगाम के नुनवान कैंप और बालटाल कैंप की सुरक्षा के लिए स्पेशल कमांडो तैनात किए गए हैं। पिछली साल के अपेक्षा 50 से 100 अर्द्ध सैनिक बलों की कंपनियां अमरनाथ यात्रा के लिए तैनात की गई हैं।  CRPF ने बुलेट प्रूफ एंटीमाईन वेहिकल की संख्या इस साल डबल कर दिया है।  

Find Us on Facebook

Trending News