अजब बिहार की गजब कहानी, 80 रुपए बचाने के चक्कर में दे रहे 10 हजार जुर्माना

अजब बिहार की गजब कहानी, 80 रुपए बचाने के चक्कर में दे रहे 10 हजार जुर्माना

पटना. बिहार कुछ मामलों में वाकई अजब गजब है. यहाँ ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो मात्र 80 रुपए बचाने के चक्कर में 10 हजार रुपए जुर्माना दे देते हैं. ऐसे लोगों की संख्या भी एक दो नहीं है बल्कि सैंकड़ो लोग ऐसा जुर्माना भर रहे हैं. 

80 रुपए बचाकर 10 हजार रुपए जुर्माना भरने का यह मामला बिहार में वाहनों के प्रदूषण से जुड़ा है. बिहार में दोपहिया वाहन का प्रदूषण सर्टिफिकेट बनाने में 80 रुपए लगता है लेकिन पिछले कुछ दिनों में पटना में वाहन जाँच के दौरान दर्जनों ऐसे वाहन चालक मिले जिन्होंने प्रदूषण सर्टिफिकेट नहीं बनवाया था. ऐसे वाहनों से अब 10 हजार रुपए जुर्माने की राशि वसूली जा रही है. अब तक इस प्रकार के 69 दोपहिया पकड़ाए हैं. 

परिवहन विभाग के आंकड़ों के अनुसार पिछले एक पखवाड़े में ही पटना में दोपहिया सहित अन्य प्रकार के करीब 115 ऐसे वाहन पकड़े गए जिनसे साढ़े ग्यारह लाख रुपए से ज्यादा का जुर्माना वसूला गया है. 24 नवम्बर से पटना में प्रदूषण जांच के लिए परिवहन विभाग अभियान चला रहा है. प्रदूषण सर्टिफिकेट बनवाने का मोटरसाइकिल के लिए 80 रुपये, कार के लिए 142 रुपये, ट्रक के लिए 590 रुपये, मीडियम मोटर वेहिकल के लिए 200 रुपये है. 

पटना में इन दिनों प्रदूषण का स्तर खतरनाक हो चला है. इसमें वाहनों से फैलते प्रदूषण का बड़ा योगदान है. पटना का ऐक्यूआई लेवल रविवार को 304 तो सोमवार को 356 एक्यूआइ रहा. वहीं  मुजफ्फरपुर का प्रदूषण ग्राफ सोमवार को 352 एक्यूआइ पहुँच गया जबकि रविवार को यहाँ 333 एक्यूआइ था. प्रदूषण के मामले में कम प्रदूषित शहर माना जाने वाला गया भी पिछले  कुछ दिनों में लगातार प्रदूषण बढने से परेशान है. गया में सोमवार को 222 एक्यूआइ रहा जो रविवार को 230 था. 


Find Us on Facebook

Trending News