गर्व और गम के बीच सीडीएस रावत को श्रद्धांजलि देने पहुंचे कई विदेशी राजनयिक, फ़्रांस और ब्रिटेन ने बताया सच्चा दूरदर्शी नायक

गर्व और गम के बीच सीडीएस रावत को श्रद्धांजलि देने पहुंचे कई विदेशी राजनयिक, फ़्रांस और ब्रिटेन ने बताया सच्चा दूरदर्शी नायक

नई दिल्ली. सीडीएस जनरल बिपिन रावत को अंतिम विदाई देने के लिए दिल्ली में न सिर्फ भारतीय राजनेता और सेनाओं के प्रमुख अधिकारी पहुंचे बल्कि कई देशों के राजनयिक भी इस दौरान उपस्थित रहे. फ़्रांस और ब्रिटेन के दूतावासों से वरीय राजनयिकों की पूरी टीम पहुंची. कुछ अन्य देशों के भी दूतावास से कई अधिकारी आए और उन्होंने जनरल की वीरता और कुशल रणनीति एवम नेतृत्व को याद किया. 

ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने कहा, जनरल रावत ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने रक्षा के क्षेत्र में यूनाइटेड किंगडम और भारत के बीच संबंधों को बेहतर बनाने में बहुत काम किया। उनका जाना बहुत बड़ा नुकसान है। हम उन्हें, उनकी पत्नी और दुर्घटना में मारे गए अन्य सभी लोगों को याद करते हैं, जिनमें ब्रिटिश उच्चायोग के कई करीबी दोस्त भी शामिल हैं. उन्होंने कहा, यह अविश्वसनीय रूप से दुखद है. वह एक अग्रणी थे क्योंकि उन्होंने संयुक्त रक्षा दृष्टिकोण शुरू किया था जिसका हम यूके में पालन करते हैं। उन्होंने भारत में उस दृष्टिकोण का नेतृत्व किया। एक महान नेता, एक सैनिक और एक अच्छे इंसान को खोना भारत के लिए बहुत दुखद है.

फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनिन ने कहा, मैं उन्हें श्रद्धांजलि देना चाहता था और उनकी अंतिम विदाई में व्यक्तिगत रूप से आना चाहता था क्योंकि हम उन्हें अपने देश के साथ सहयोग को आगे बढ़ाने के लिए एक महान सैन्य नेता, दृढ़ संकल्पित और महान मित्र के रूप में याद करते हैं। उन्हें वास्तव में प्यार से याद किया जाएगा.

शुक्रवार शाम दिल्ली के बरार स्क्वायर पर सीडीएस रावत का अंतिम संस्कार किया गया. वहीं हेलिकॉप्टर क्रैश में जान गंवाने वाले अन्य लोगों का भी विधि विधान पूर्वक अंतिम संस्कार किया गया. 

Find Us on Facebook

Trending News