अमित शाह ने किशनगंज में स्वीकारा, बिहार में सीमा से जुड़ी हैं चुनौतियां, यहां ड्यूटी करना सबसे कठिन

अमित शाह ने किशनगंज में स्वीकारा, बिहार में सीमा से जुड़ी हैं चुनौतियां, यहां ड्यूटी करना सबसे कठिन

पटना. गृह मंत्री अमित शाह बिहार के दौरे पर हैं। किशनगंज में शनिवार को अमित शााह का दूसरा दिन है। किशनगंज पहुंचे अमित शाह ने सुप्रसिद्ध बूढ़ी काली मंदिर में माँ के दर्शन कर देश व बिहारवासियों की समृद्धि की कामना की। जिसके बाद उन्होंने बिहार के किशनगंज में एसएसबी की 5 सीमा चौकियों के उद्घाटन पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि दिल्ली में बैठकर सोचते हैं तो लगता है कि सभी सीमा सुरक्षा की जिम्मेदारी निभाने वाले सशस्त्र बलों में सबसे सरल ड्यूटी आपकी है क्योंकि दोनों देशों (नेपाल और भूटान) से हमारे मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। 

अमित शाह ने कहा कि जब कोई सीमा पर आता है, तो मालूम पड़ता है कि सबसे कठिन ड्यूटी आपकी है क्योंकि यह खुली सीमा है। बिहार के किशनगंज में एसएसबी के 5 बीओपी के उद्घाटन के अवसर पर शाह ने कहा कि पूर्वोत्तर में व्याप्त नक्सलवाद के खिलाफ एसएसबी के जवानों ने कड़ी लड़ाई लड़ी है। परिणामस्वरूप, बिहार और झारखंड क्षेत्रों में नक्सलवाद समाप्त होने के कगार पर है, हम यह भी कह सकते हैं कि यह यहाँ समाप्त हो गया है।

अमित शाह ने कहा कि कई जगहों पर बीओपी बनाए गए। एसएसबी एक इतिहास है। देश में अटल जी की सरकार के समय पर यह अस्तित्व में आया। उन्होंने कहा कि सभी सीमा की सुरक्षा करने वालों में लगता है कि सबसे सरल ड्यूटी एसएसबी की है, क्योंकि बांग्लादेश और नेपाल से हमारे मैत्रीपूर्ण संबंध है। यहां आकर देखने पर लगता है कि सबसे कठिन ड्यूटी एसएसबी की है।


Find Us on Facebook

Trending News