वैशाली में बोले अमित शाह, बिहार CAA के साथ, वोट बैंक की खातिर राहुल- लालू एंड कंपनी कर रहे विरोध

वैशाली में बोले अमित शाह, बिहार CAA के साथ, वोट बैंक की खातिर राहुल- लालू एंड कंपनी कर रहे विरोध

VAISHALI: बिहार के वैशाली में नागरिकता कानून को लेकर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि कुछ लोग वोट बैंक की खातिर इस कानून का विरोध कर रहे हैं। शाह ने रैली के दौरान कहा कि सीएए को राज्य में अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। केंद्रीय गृह मंत्री ने सीएए के विरोध को लेकर लालू यादव, ममता बनर्जी, राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि ये नेता देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। अमित शाह ने कहा कि मैं ममता दीदी, केजरीवाल, राहुल गांधी, लालू प्रसाद और कम्यूनिस्टों से कह देना चाहता हूं कि कान खोलकर सुन लो जो भी देश के खिलाफ नारे लगाएगा, उसकी जगह केवल जेल की सलाखों के पीछे होगी।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि राहुल गांधी और लालू प्रसाद संशोधित नागरिकता कानून पर लोगों को गुमराह करना बंद करें और इस कानून की वजह से किसी की नागरिकता नहीं छीनी जा रही है। उन्होंने बिहार के वैशाली जिले में संशोधित नागरिकता कानून के समर्थन में आयोजित एक रैली में कहा कि सीएए को बिहार में बहुत ही अच्छी प्रतिक्रिया मिली है।

शाह ने आरोप लगाया कि विपक्षी दलों ने सीएए विरोधी दंगे करवाए, जिसकी वजह से बीजेपी को उनके नापाक इरादों के बारे में लोगों को बताने के लिए देशभर में रैलियां करनी पड़ीं । केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि सीएए का मकसद उन लोगों की मदद करना है जिनकी आंखों के सामने उनकी महिलाओं से बलात्कार किया गया, उनकी संपत्तियां छीन ली गई और उनके पूजा स्थलों को अपवित्र किया गया जिसके बाद वह भारत आए।
 
 बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा, 'नागरिकता संशोधन कानून के माध्‍यम से अनेक पीड़‍ित लोगों को लाभ लोगों को मिलेगा। लेकिन कुछ लोग अपने वोट बैंक के लिए इसका विरोध कर रहे हैं। मैं सबसे कहना चाहता हूं कि इससे किसी की नागरिकता नहीं जाएगी। यह देश के लोगों को नागरिकता देगा, लेगा नहीं। कांग्रेस पार्टी ने धर्म के आधार पर देश का विभाजन करने का काम किया। इससे लाखों शरणार्थी भारत आए और जो लोग पाकिस्‍तान में रह गए वहां हिंदू, बौद्ध, जैन भाइयों के साथ अन्‍याय हुआ। पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश में 30 प्रतिशत हिंदू, बौद्ध और जैन थे लेकिन आज 3 प्रतिशत लोग हैं। मैं लालू यादव, राहुल गांधी और ममता बनर्जी से पूछना चाहता हूं कि बाकी लोग कहां गए। इन लोगों की आंख अंधी है और कान बहरे हो गए हैं। इनकी बुद्धि ही खो गई है। उन्‍होंने कहा कि जिनके मंदिर, गुरुद्वारे तोड़ दिए गए, वे कहां जाएंगे? यहीं आएंगे।'


Find Us on Facebook

Trending News