यही JP के अनुयायी हैं? 'कुर्सी' के लिए कांग्रेस की गोद मे बैठ गए 'नीतीश', 'शाह' के प्रहार से तिलमिलाए CM, बोले-कुछ पता है?

यही JP के अनुयायी हैं? 'कुर्सी' के लिए कांग्रेस की गोद मे बैठ गए 'नीतीश', 'शाह' के प्रहार से तिलमिलाए CM, बोले-कुछ पता है?

Patna: गृह मंत्री अमित शाह आज मंगलवार को जेपी की जन्मस्थली सिताब दियारा के दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर गंभीर आरोप लगाए। गृह मंत्री ने कहा कि नीतीश कुमार खुद को जेपी का अनुआई कहते हैं। जयप्रकाश  नारायण ने कांग्रेस की तत्कालीन सरकार की इमरजेंसी के खिलाफ आंदोलन किया था। अपने आप को जेपी आंदोलन की उपज बताने वाले वही नीतीश कुमार आज सत्ता के लिए कांग्रेस की गोद में बैठ गए हैं। अमित शाह के इस प्रहार के बाद नीतीश कुमार तिलमिला गए।

अमित शाह के बयान से तिलमिलाए नीतीश

पटना में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने बिना नाम लिए अमित शाह को जवाब दिया और कहा कि सिर्फ अंड-बंड बोलते रहना है। नीतीश कुमार ने कहा कि आज जो प्रधानमंत्री हैं,वे जब मुख्यमंत्री बने थे तो वे (शाह)क्या थे, आप जरा पूछ लीजिए ना, इनको क्या मालूम है। जेपी मूवमेंट का और आजादी का....। कुछ पता है इन लोगों को? कुछ पता है,ये लोग कुछ बोलते रहते हैं। हम कुछ नहीं बोलना चाहते हैं। ये हम पर क्या आरोप लगाएंगे, छोड़ दीजिए ना, उन लोगों को कोई ज्ञान है? कोई जानकारी है? क्या उम्र है.... आजकल उनका पार्टी वाला बोल रहा है की उनका बहुत उमर है। उनके जो नेता है उनकी उम्र क्या है? यह लोग क्या बोलते रहता है अंड बंड, उसका क्या मतलब है.

सुशील मोदी पर भी किया कटाक्ष

 अमित शाह के बिहार के हर जिले में दौरा के सवाल पर नीतीश कुमार ने कहा कि कौन रोके हुए हैं, घूमे सभी जगह, सुशील मोदी पर प्रहार करते हुए कहा कि आपकी हैसियत क्या किए हुए है। जिन लोगों को आजादी की लड़ाई से मतलब नहीं, जेपी के नेतृत्व में जो मूवमेंट हुआ उससे क्या मतलब था....। सब लोग आजकल कुछ से कुछ बोलते रहता है। इसी चक्कर में कि कुछ ना कुछ जगह मिल जाए। सुशील मोदी पर तंज कसते हुए CM ने कहा कि सुनते हैं कि दिनभर 10-15 बार ट्वीट करते रहते हैं ।

जेपी आंदोलन की उपज वाले नेता आज कांग्रेस की गोद में-शाह

अमित शाह ने कहा कि 1974 में जयप्रकाश नारायण ने बिहार में आंदोलन शुरू किया था,वह राजनीतिक आंदोलन था. सारे विचारधारा के छात्र जेपी की अगुवाई में इकट्ठा हुए थे. सुशील मोदी जी यहां बैठे हैं, सुशील मोदी भी उसी आंदोलन की उपज हैं. उसी आंदोलन के कई अन्य अनुयायी हैं जो जीवन भर जेपीजी और लोहिया जी का नाम लेते हैं. जो जेपी आंदोलन से उपजे नेता हैं जो आज कांग्रेस की गोदी में बैठे हैं. सिर्फ सत्ता के लिए. अमित शाह ने जनसभा में उपस्थित लोगों से पूछा कि क्या आप उनसे सहमत हैं क्या...। क्या यह जयप्रकाश जी के सिद्धांतों की राजनीत है?  जयप्रकाश ने जीवन भर सत्ता के लिए कुछ नहीं किया, सिर्फ सिद्धांत की राजनीत की. अमित शाह ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि आज सत्ता के पांच-पांच बार पाला बदलने वाले लोग बिहार के मुख्यमंत्री बनकर बैठे हैं. बिहार की जनता को अब तय करना है कि जयप्रकाश के दिखाए हुए रास्ते पर चलने वाली नरेंद्र मोदी वाली भाजपा चाहिए या जयप्रकाश के रास्ते से भटक कर चोर दरवाजे वाले लोग।

Find Us on Facebook

Trending News