आनंद किशोर की बड़ी पहल, ई-ऑफिस से लैस हुआ नगर विकास एवं आवास विभाग...

आनंद किशोर की बड़ी पहल, ई-ऑफिस से लैस हुआ नगर विकास एवं आवास विभाग...

PATNA: बिहार में नगर विकास एवं आवास विभाग ई-ऑफिस से पूरी तरह लैस हो गया है।  ई-ऑफिस की व्यवस्था लागू होने के कारण फाइलों से त्वरित गति से निष्पादित हो रहा। 19 अक्तूबर से ही विभाग में सभी फाइलें ई-ऑफिस के माध्यम से सफलतापूर्वक निबटायी जा रही हैं. विभाग के सचिव आनंद किशोर द्वारा कार्यालय कार्य हेतु ई-ऑफिस के क्रियान्वयण की पहल के बाद विभाग में सभी फाइलों का ऑनलाइन निष्पादन हो रहा है। नगर विकास एवं आवास विभाग अब न केवल ई-ऑफिस से पूरी तरह लैस है बल्कि विभाग पारदर्शिता से सरकारी कार्यां का निबटारा कर रहा है.

 सचिव आनंद किशोर ने बताया कि 19 अक्तूबर से विभाग में सभी फाइलें ई-ऑफिस के माध्यम से सफलतापूर्वक निबटायी जा रही हैं। यहां सभी सहायक से लेकर सभी प्रशाखा पदाधिकारी, सभी उपसचिव, संयुक्त सचिव, विशेष सचिव, सचिव तथा अन्य सभी पदाधिकारी तक ई-ऑफिस के माध्यम से विभागीय कार्य कर रहे हैं। 19 अक्तूबर से 6 नवंबर के मध्य अवकाश  को छोडकर शेष महज 11 कार्य दिवसों में 857 फाइलें ऑनलाइन माध्यम से निबटायी गयी हैं। ई-ऑफिस के लिए विभाग में पूर्व से मौजूद 55 कंप्यूटर व 4 स्कैनर के अतिरिक्त 48 नए डेस्कटॉप कंप्यूटर, 14 नए लैपटॉप और 12 नए स्कैनर खरीदे गये हैं। यही नहीं पूरे ऑफिस को वाई-फाई से युक्त किया गया है। इसके लिए SECLAN के अतिरिक्त 100 एमबीपीएस की हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा ली गयी है ताकि कार्य कभी भी इंटरनेट के कारण बाधित नहीं हो सके। विभाग में 48 नए कंप्यूटर खरीदे गये हैं तथा संबंधित पदाधिकारियों-कर्मचारियों को डेस्कटॉप कंप्यूटर, 14 वरीय और कनीय सेक्शन इंचार्ज को लैपटॉप दिये गये हैं। सभी 12 सेक्शन और कोषांगों को हाईस्पीड स्कैनर भी उपलब्ध कराये गये हैं। 

क्या है ई-ऑफिस सिस्टम?

ई-ऑफिस सिस्टम से सरकारी विभागों में संचिकाओं का निष्पादन ऑनलाइन किया जाता है। एनआइसी द्वारा तैयार सॉफटवेयर के माध्यम से सरकारी कार्यां का निष्पादन कम समय में सुगमतापूर्वक पूरी पारदर्शिता के साथ की जाती है। 

कैसे होता है फाइलों का निष्पादन?

इसमें हरेक पदाधिकारी कर्मचारी का लॉग-इन बना होता है। सभी के डिजिटल सिग्नेचर भी बनाये जाते हैं। भौतिक रूप से जैसे फाइलों का मूवमेंट होता है उसी प्रकार ई-फाइल संबंधित सेक्शन के कर्मचारी द्वारा संबंधित अधिकारी को ऑनलाइन अग्रसारित की जाती है। फाइल पहुंचने के बाद संबंधित पदाधिकारी द्वारा अपने नोटिंग के साथ उसे वरीय पदाधिकारी को ऑनलाइन अग्रसारित कर दिया जाता है। सभी ऑनलाइन फाइलों पर न केवल तारीख बल्कि समय का भी उल्लेख होता है। इस तरह फाइल का निष्पादन ऑनलाइन ही संपन्न हो जाता है।  

क्या है ई-ऑफिस सिस्टम का लाभ?

संचिकाओं का शीघ्र निष्पादन होता है। 

समय एवं कागज की बचत होती है। 

अनावश्यक खर्च की बचत होती है। 

कार्यालय में संचिकाओं का अंबार नहीं होता है। 

कार्यालय कार्य बिल्कुल स्वच्छ वातावरण में होता है। 

विभागीय संचिकाओं का नोटिंग एवं डाटा सुरक्षित रहता है। 

कार्यालय कार्य में पूरी पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित होती है।   

आपात स्थिति में संचिकाओं के विनष्ट होने एवं पथभ्रष्ट होने की समस्या नहीं रहती है।

Find Us on Facebook

Trending News