आनंद मोहन की रिहाई होगी ! मुख्यमंत्री बोले- हम क्या कर रहे उनकी 'पत्नी' से पूछिए, वैसे 'नीतीश' ने 2020 में भी रिहाई के दिए थे संकेत

आनंद मोहन की रिहाई होगी ! मुख्यमंत्री बोले- हम क्या कर रहे उनकी 'पत्नी' से पूछिए, वैसे 'नीतीश' ने 2020 में भी रिहाई के दिए थे संकेत

PATNA: गोपालगंज के जिलाधिकारी जी. कृष्णैया की हत्या मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे आनंद मोहन की रिहाई हो सकती है. एक बार फिर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस ओर इशारा किया है. वैसे नीतीश कुमार ने तीन साल पहले यानि जनवरी 2020 में भी ऐसी ही बातें कही थी. राजधानी पटना के मिलर स्कूल ग्राउंड में आयोजित स्वाभिमान सम्मेलन में मौजूद लोग आनंद मोहन की रिहाई की मांग करने लगे. तब सीएम नीतीश ने कहा कि हमसे क्या पूछते हो ,उनकी पत्नी (लवली आनंद) से पूछो, हम आनंद मोहन की रिहाई के लिए क्या कर रहे हैं. आपलोग 2020 में भी नारा लगाये थे, तब भी हमने कहा था. 

आनंद मोहन की रिहाई चाहते हैं-नीतीश 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राजनीति में वो (आंद मोहन) जो भी करें, लेकिन जब उनकी गिरफ्तारी हुई थी तो जॉर्ज साहब के साथ हमलोग आनंद मोहन से मिलने जेल में गए थे. हमलोग की आनंद मोहन के लिए शुभकामना रही है. हमलोग कभी नहीं चाहते थे कि वे जेल में रहें. इसलिए आपलोग चिंता मत करिए. इन सब चीजों के लिए आपलोग हल्ला मत करें, वरना बाहर में ये मैसेज जायेगा कि आपलोग हल्ला किए तो उनकी रिहाई हुई। 

2020 में भी मुख्यमंत्री ने की थी घोषणा 

वैसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तीन साल पहले इसी ग्रांउड से संकेत दिये थे कि आनंद मोहन की रिहाई हो सकती है. लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जनवरी 2020 में मिल स्कूल ग्राउंड में आयोजित महाराणा प्रताप जयंती समारोह में बोलते हुए सीएम नीतीश ने कहा था, ''जितनी चिंता आप लोगों को आनंद मोहन की है, उससे कहीं अधिक फिक्र मुझे है. इसके साथ ही सीएम ने कहा था कि उनकी रिहाई के लिए जो मुझसे हो सकेगा वो मैं करूंगा. उन्होंने कहा था कि पुराने साथियों की मदद-सहयोग करना है। सरकार अपने स्तर से हर मदद करेगी। बगैर नाम लिए मुख्यमंत्री ने कहा था कि कानून का अपना दायरा है और सरकार का भी। कानूनी प्रक्रिया में बिना दखल दिये सरलता पूर्वक जो हो सकेगा वह किया जाएगा।



Find Us on Facebook

Trending News