पुलिस से नाराज युवक खुदकुशी के लिए चढ़ा पानी टंकी पर, काफी मशक्कत के बाद उतारा गया

पुलिस से नाराज युवक खुदकुशी के लिए चढ़ा पानी टंकी पर, काफी मशक्कत के बाद उतारा गया

अलीगढ़. जिला अधिकारी कार्यालय कलेक्ट्रेट परिसर में बनी पानी की टंकी पर एक युवक पुलिस के कार्य प्रणाली से नाखुश होते हुए आत्महत्या करने के उद्देश्य से एक बैग में जहर की शीशी और पेट्रोल लेकर शोले फिल्म के वीरू की तरह जान देने के लिए टंकी पर चढ़ गया. युवक को टंकी पर चढ़ा देख कलेक्ट्रेट में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया और लोग अपना काम धंधा छोड़कर युवक को पानी की टंकी से नीचे उतारने की गुजारिश करने लगे. लेकिन युवक पानी की टंकी पर चढ़ने के बाद नीचे उतरने को तैयार नहीं हुआ. कई घंटों और काफी मशक्कत के बाद युवक को बमुश्किल समझा-बुझाकर पानी की टंकी से नीचे उतारा गया.

अलीगढ़ के कलेक्ट्रेट में आज एक युवक आत्महत्या करने के उद्देश्य से पानी की टंकी पर चढ़ गया. युवक को समझाने की काफी देर तक अधिकारियों और अधिवक्ताओं ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह उतरने को तैयार नहीं था. काफी देर तक समझाने बुझाने के बाद दमकल विभाग के एक कर्मचारी ऊपर पानी की टंकी पर चढ़ा और वहां जाकर युवक को समझाया. इसके बाद युवक उस कर्मचारी के साथ नीचे उतरकर सकुशल वापस आ गया. युवक अपने साथ एक बैग भी लेकर गया था, जिसमें पेट्रोल और जहर की शीशी भी थी.

दरअसल मुकीम नामक युवक अलीगढ़ के अतरौली क्षेत्र के वैसवाड़ा का रहने वाला है. मुकीम का आरोप है कि कुछ माह पूर्व उसको दो युवक जबरदस्ती अपहरण कर हरदुआगंज क्षेत्र के गांव में ले गए. किसी तरह वह बचकर आ गया और उसने जब पुलिस को एप्लीकेशन दी तो पुलिस के दरोगा कर्मवीर ने उल्टा उसको ही धमका दिया और मामले में कोई कार्रवाई नहीं की. इस बात से कुपित होकर आज युवक मुकीम अलीगढ़ के कलेक्ट्रेट स्थित पानी की टंकी के ऊपर चढ़ गया. वह अपने साथ जहत और पेट्रोल भी लेकर आया था. युवक के पानी की टंकी पर चढ़ने के बाद मौके पर थाना सिविल लाइन पुलिस, दमकल विभाग की टीम, अधिवक्ता ने समझाने की बहुत कोशिश की. काफी देर समझाने बुझाने के बाद युवक को नीचे उतारा जा सका.

पीड़ित युवक ने बताया कि मुझे दो लोग बाइक पर बिठा कर ले गए और मैंने शोर मचाना चाहा तो उन्होंने चाकू दिखाया. हरदुआगंज थाने में गांव पड़ता है सिल्ला, वहां पर काली नदी की तरह मुझे मारने ले जा रहे थे. जब मैंने एप्लीकेशन दी, तो थाना हरदुआगंज वालों ने कहा कि यह झूठ बोल रहा है. कुछ दिन बाद में लोग मुझे फिर से टॉर्चर करने लगे. दरोगा कर्मवीर ही मुझसे कह रहे थे कि तू मारा जाएगा. मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई. 3 महीने से ज्यादा हो गया. इसके चलते पैट्रोल जहर लेकर मरने के लिए आये हैं.


Find Us on Facebook

Trending News