इमरजेंसी के नायक की भूमिका में दिखेंगे अनुपम खेर, बिहार के बड़े राजनेताओं के बनेंगे राजनीतिक गुरू

इमरजेंसी के नायक की भूमिका में दिखेंगे अनुपम खेर, बिहार के बड़े राजनेताओं के बनेंगे राजनीतिक गुरू

PATNA : लालू प्रसाद और नीतीश कुमार बिहार के दो बड़े राजनीतिक चेहरे हैं। अब बॉलीवुड में अपनी अदाकारी से साढ़े तीन दशक से लोगों का दिल जीत रहे अनुपम खेर बिहार के इन दोनों नेताओं के गुरू बनने वाले हैं। चौंकने की बात नहीं है। यह रियल में नहीं, बल्कि रील लाइफ में होने जा रहा है। दरअसल,अनुपम खेर एक फिल्म में इन दोनों नेताओं के राजनीतिक गुरू माने जानेवाले जय प्रकाश नारायण की भूमिका में नजर आने वाले हैं। उनकी इस फिल्म का पहला लुक बीते गुरुवार को रिलीज किया गया। 

इमरजेंसी है फिल्म का नाम

जिस फिल्म में अनुपम खेर जेपी की भूमिका निभाने वाले हैं, उस फिल्म का नाम  है इमरजेंसी। जिसे बॉलीवुड 'क्वीन' कंगना रनौत खुद निर्माण करने के साथ निर्देशित कर रही है। वहीं वह फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की भूमिका में दिखेंगी। फिल्म में कंगना का पहला लुक पिछले दिनों रिलीज किया गया था, जो काफी वायरल हुआ था। वहीं अब फिल्म में जेपी की भूमिका निभा रहे अनुपम खेर का लुक भी रिवील कर दिया गया है।

बिहार राजनीति के गुरु जेपी

बिहार के राजनीती में अभी भी जेपी नारायण की छाप देखी जा सकती है, क्यूंकि जेपी के आन्दोलन से ही लालू प्रसाद यादव, नीतीश कुमार, सुशील मोदी और भी जितने बड़े नेता है सब के गुरु लोकनायक जयप्रकाश नारायण ही है. उन के आन्दोलन से ही ये सारे नेता राजनीति में उतरे थे. 'इमरजेंसी' फिल्म के पोस्टर में अनुपम खेर हुबहू जेपी नारायण की तरह नजर आ रहे हैं. उनका मेकअप हो या एक्सप्रेशन सब कुछ भारतीय राजनेता की तरह ही लग रहा है. जेपी नायरण के लुक में अनुपम खेर को देख कर कहना ही होगा कि किरदार कैसा भी हो, वो उसमें खुद को बखूबी ढालना जानते है

इमरजेंसी के नायक रहे हैं जेपी

1975 के इमरजेंसी में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और लोकनायक राजनेता और क्रांतिकारी नेता जयप्रकाश नारायण आमने सामने थे. क्रांतिकारी नेता जयप्रकाश नारायण को समाजवादी, सिद्धांतवादी और राजनीतिज्ञ के रूप के लिए जाना जाता है. इमरजेंसी के समय अपने कारनामों से उन्होंने देश की सरकार को हिला कर रख दिया था. लोगों में जे.पी. के किरदार को लेकर काफी उत्सुकता है. हालाँकि जान कर हैरानी नहीं होनी चाहिए कि इमरजेंसी के हीरो क्रांतिकारी नेता जयप्रकाश नारायण की भूमिका कोई और नहीं बल्कि बॉलीवुड के चंद मंझे हुए और उम्दा कलाकारों में से एक अनुपम खेर निभा रहे है. अनुपम खेर अपने हर किरदार को घोल कर पी जाते हैं. 'इमरजेंसी' में उनके लुक को देख कर कहना गलत नहीं होगा कि वो इस फिल्म में अपने रोल से नया इतिहास रचने वाले हैं. जे.पी के लुक को रिवील करने के बाद से सोशल मीडिया पर बाढ़ आ गई है. लोग ख़ूब तारीफ कर रहे है और बधाईयाँ भी दे रहे है. 


लोगों के पसंदीदा नेता जे.पी

संपूर्ण क्रांति के नायक जयप्रकाश नारायण ने भष्टाचार के खिलाफ उस समय की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के विरोध में जब आंदोलन किया तो देश की सबसे ताकतवर नेता इंदिरा गांधी के सामने से सत्ता छिन गई. पाकिस्तान के दो टुकड़े करके नया देश बांग्लादेश बनाने वाली आयरन लेडी ऑफ इंडिया, इंदिरा गांधी ना तो जेपी को मना पाईं और ना उनका आंदोलन रोक पाईं. जेपी के जज्बे ने देश की राजनीति की हवा का रुख ही पलट दिया था. उसी दशक में ‘इंडिया इज इंदिरा और इंदिरा इज इंडिया’ भी कहा जाता था. लेकिन जेपी के आंदोलन में यह खत्म हो गया. इस आंदोलन के बीच ही इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इंदिरा गांधी को चुनावी कानूनों के उल्लंघन का दोषी पाया और उनके चुनाव को रद्द कर दिया. इसके बाद जेपी ने इंदिरा गांधी से इस्तीफा मांग लिया, लेकिन वो इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गईं. उसके बाद 25 जून को जेपी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में एक रैली किया. अपने खिलाफ जन आंदोलनों और जेपी के तेवर से घबराई, इंदिरा गांधी ने 25 जून 1975 को इमरजेंसी की घोषणा कर दी. जेपी को अपने आंदोलन में आम जनता का ख़ूब समर्थन मिला. लोगों की आवाज़ बन चुके जेपी अब उनके सबसे पसंदीदा नेता बन चुके थे. जेपी को अपने योग्दान के लिए भारत रत्न से सम्मानित भी किया गया. 

.


Find Us on Facebook

Trending News