सुरों के बेताज बादशाह एआर रहमान सेलिब्रेट कर रहें आज अपना 54वां बर्थडे, पढ़े पूरी खबर

सुरों के बेताज बादशाह एआर रहमान सेलिब्रेट कर रहें आज अपना 54वां बर्थडे, पढ़े पूरी खबर

DESK : दुनियाभर में अपने गाने से दिल को छू जाने वाले संगीतकार एआर रहमान आज अपना 54 वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं. एआर रहमान ने अपनी पहचान ना केवल बॉलीवुड में बल्कि हॉलीवुड में भी बनायीं है. उनके गाने के फैन्स सिर्फ हिंदुस्तान में ही नहीं बल्कि हिंदुस्तान के बाहर भी आपको मिल जायेंगे. तो आज उनके बर्थडे के सुभ अवसर पर जानते है इस सुरों के बेताज मसीहा के बारे.  

आपको बता दें की एआर रहमान चैन्नै के साधारण हिन्दू परिवार में जन्म हुआ था और उनका नाम दिलीप कुमार था पर घर में हुई एक हादसे की वजह से उन्होंने अपना नाम दिलीप कुमार से बदलकर अल्लाह रक्खा कर लिया साथ ही साथ अपना धर्म भी बदल दिया. कहा जाता है की 1984 में रहमान की बहन काफी बीमार थी तभी उनकी मुलाकात कादरी तारीक से हुई जिसके बाद उनकी बहन बिलकुल ठीक हो गयी और फिर कुछ समय बाद ही रहमान ने अपना धर्म बदल लिया. 

साल 1992 में आई फिल्म रोज़ा से उन्होंने अपनी संगीति करियर का स्टार्ट किया था. उस फिल्म का गाना 'रोज़ा जानेमन' ने दर्शकों के दिल में अपनी जगह बना ली थी. फिर उसके बाद ताल, रंगीला, दिल से, जोधा अकबर, रंग दे बसंती, और रॉकस्टार जैसी सैकड़ों फिल्मों के लिए संगीत दिया और उन गानों से सबके दिलों के साथ बॉलीवुड में भी अपनी अलग पहचान बनायीं. आज वो जिस मुकाम पर है उसका सारा श्रेय वो अपनी माँ करीमा बेगम को देते हैं. आपको बता दें की उनकी माँ की मृत्यु अभी कुछ दिन पहले ही हुई. वो लम्बे समय से बीमार चल रही थी. 

ए.आर रहमान अपने करियर में चार राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड, दो एकेडमी अवॉर्ड, दो ग्रैमी अवॉर्ड, एक बाफ्टा अवॉर्ड, दो ओस्कार्स अवार्ड और एक गोल्ड़न ग्लोब अवॉर्ड हासिल कर चुके हैं. आपको बता दें की उन्हें दो ऑस्कर 2009 में आई फिल्म स्लमडॉग मिलियनेयर के लिए मिली थी जिससे उन्होंने भारत का नाम रौशन किया था. उन्हें फिल्म के गीत जय हो के लिए 'बेस्ट ओरिजिनल स्कोर' और 'बेस्ट ओरिजिनल सोंग' के लिए पुरस्कार दिया गया था. 

Find Us on Facebook

Trending News