अफवाह से बचें : नवादा में बच्चा चोरी के शक में हो रही मॉब लिंचिंग, लोगों की पिटाई से एक सदर अस्पताल में भर्ती

अफवाह से बचें : नवादा में बच्चा चोरी के शक में हो रही मॉब लिंचिंग, लोगों की पिटाई से एक सदर अस्पताल में भर्ती

NAWADA : नवादा में इन दिनों बच्चा चोरी का आरोप लगाकर किसी की पिटाई कर देने का मामला तेजी से सामने आ रहा है. आज जिले में तीन जगहों पर ऐसे मामले सामने आये हैं. आज मुफस्सिल थाना क्षेत्र के रुस्तमपुर गाँव में पुलिस शराब कारोबारियों के ठिकानों पर छापेमारी करने गयी थी. इसी बीच शराब कारोबारियों ने बच्चा चोरी का अफवाह उड़ा दिया. दूसरी घटना नवादा जिले के वारसलीगंज थाना क्षेत्र के कोरमा गांव के समीप की है. गुरुवार को यहाँ बच्चा चोर के शक पर एक अधेड़ की जमकर पिटाई कर दी गई. इसके बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया. लोगों की पिटाई से जख्मी अधेड़ को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया. 

इससे पहले बच्चा चोर की खबर सुन उसे देखने के लिए पीएचसी में भीड़ उमड़ पड़ी. इलाज के दौरान अधेड़ ने बताया कि वह गोपालगंज जिले के देवकीचरण राम गांव का निवासी हैं. उसने यह भी कहा कि लोगों से मदद लेने के लिए वह इधर आया था. हालांकि वह ज्यादा बात करने की स्थिति में नहीं था. घटना के बारे में कोरमा गांव के पंकज प्रसाद ने बताया कि उनका छह वर्षीय पुत्र शुभम कुमार अपनी दो बहनों के साथ वारिसलीगंज स्थित स्कूल से पैदल घर लौट रहा था. इसी बीच उस व्यक्ति ने शुभम को बिस्कुट खिला दिया. जिसे खाने के साथ शुभम अधेड़ के पीछे चलने लगा. इसकी सूचना पर परिजन वहां पहुंचे. इसी बीच लोगों ने उसे बच्चा चोर समझ कर पकड़ लिया और फिर जमकर उसकी पिटाई कर दी. कई लोग उस व्यक्ति की गतिविधि को देख उसे पागल समझ रहे थे. लेकिन वहां मौजूद भीड़ किसी की कुछ सुनने समझने को तैयार नहीं थी. सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे अपने कब्जे में ले लिया और इलाज के लिए सदर अस्पताल भेज दिया. 

उधर कौआकोल थाना क्षेत्र में ऐसा ही एक मामला सामने आया है. यहाँ रधवा गाँव में बच्चा चोरी के आरोप में एक अधेड़ व्यक्ति मॉब लिंचिंग का शिकार होते होते बच गया. मिली जानकारी के अनुसार लखीसराय जिले के पीरगोड़ा गांव निवासी 50 वर्षीय गगन रजक गांव -गांव घूमकर धार्मिक पुस्तक बेचने का काम करता था. गुरुवार की दोपहर जैसे ही वह रधवा गांव पहुंचा, कुछ शरारती तत्वों ने उसके बारे में बच्चा चोर का अफवाह फैला दिया. 

देखते ही देखते लोग बिना कुछ सोचे समझे अधेड़ व्यक्ति को मारने के लिए टूट पड़े. घटना की सूचना स्थानीय लोगों द्वारा पुलिस को दी गई. जिस पर तत्परता दिखाते हुए पुलिस गांव पहुंचकर अधेड़ व्यक्ति को भीड़ से मुक्त करा थाना ले आई. इस संबंध में थानाध्यक्ष मनोज कुमार ने बताया कि पुलिस अधेड़ व्यक्ति को सुरक्षित थाना ले आई है. मामले की तहकीकात की जा रही है. वहीं इस मामले पर कौवाकोल थाना प्रभारी ने कहा है कि भीड़ में पिटाई नहीं की गई है.

नवादा से अमन सिन्हा की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News