अब आजम खान को भारी पड़ेगी बदजुबानी? नेताओं की बेलगाम बयानबाजी पर चुनाव आयोग सख्त

अब आजम खान को भारी पड़ेगी बदजुबानी?  नेताओं की बेलगाम बयानबाजी पर चुनाव आयोग सख्त

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीएसपी चीफ मायावती पर सख्त एक्शन के बाद अब सबकी नजरें एक बार फिर चुनाव आयोग पर है। आजम खान ने सारी हदों को लांगते हुए जया प्रदा के खिलाफ बयान दिया, जो उनकी मुश्किलें बढ़ा रहा है। माना जा रहा है कि चुनाव आयोग आजम खान पर कड़ी कार्रवाई कर सकता है। गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में भी चुनाव के समय आजम खां द्वारा भड़काऊ और आपत्तिजनक बयानबाजी करने पर सात मुकदमे हुए थे। चुनाव आयोग ने उनके भाषण देने पर रोक लगाई थी। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर से उम्मीदवार आजम खान के बयान पर विवाद बढ़ता जा रहा है। बीजेपी नेता जया प्रदा को लेकर उनके द्वारा की गई अमर्यादित टिप्पणी पर अब केस दर्ज हो गया है।

बता दें कि आजम के बयान पर संज्ञान लेते हुए क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट ने उनके खिलाफ तहरीर दे मुकदमा दर्ज कराया। आजम खान के बयान की चारो तरफ भर्त्सना हो रही है। इस बीच चुनाव आयोग ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बसपा अध्यक्ष मायावती के चुनाव प्रचार पर सीमिट वक्त तक बैन लगा दिया है। इसके बाद अब सवाल उठने लगे हैं कि क्या आजम खान के खिलाफ भी चुनाव आयोग कोई बड़ा फैसला लेता है या नहीं।

क्या कहा था आजम खान ने

गौरतलब है कि रामपुर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए आजम खान ने जया प्रदा पर अमर्यादित टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था कि 10 बरस जिसने रामपुर वालों का खून पीया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए। जिसका हमने पूरा ख्याल रखा। उसने हमारे ऊपर क्या-क्या आरोप नहीं लगाए।

इसी दौरान उन्होंने मर्यादा तोड़ते हुए कहा ‘जिसको हम उंगली पकड़कर रामपुर लाए, आपने 10 साल जिनसे प्रतिनिधित्व कराया...उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनका अंडरवियर खाकी रंग का है.'

बता दें कि राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी आजम खान को नोटिस भेजा है। महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने अखिलेश यादव की चुप्पी पर भी सवाल खड़े किए हैं।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी जया प्रदा के बचाव में उतर आई हैं। सुषमा ने सोमवार सुबह ट्वीट कर मुलायम सिंह यादव से अपील कर आजम खान पर एक्शन लेने की अपील की। सुषमा ने ट्वीट किया, मुलायम भाई, आप समाजवादी पार्टी के पितामह हैं। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीर हरण हो रहा है, आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती ना करें। ऐसे में अब सबकी नजरें चुनाव आयोग पर है कि वह आजम खान पर क्या कार्रवाई करता है।

Find Us on Facebook

Trending News