बड़े भाई की भूमिका में उभर रही है बीजेपी, जदयू को झटका, एनडीए में नई रणनीति पर शुरू हुई चर्चा

बड़े भाई की भूमिका में उभर रही है बीजेपी, जदयू को झटका, एनडीए में नई रणनीति पर शुरू हुई चर्चा

 पटना... बिहार विधानसभा चुनाव 2020 का मतगणना जारी है। अब तक के रूझानों में जिसकी सरकार बनती दिखाई दे रही है वो एनडीए की है। लगभग 1.30 बजे तक आए रूझानों में एनडीए 132 सीटों पर आगे चल रही है। आकंड़ों को देखें तो आरजेडी और महागठबंधन 100 के आसपास दिख रही है तो इस बाार चुनाव में अप्रत्याशित तरीके से भाजपा 74 सीट पर बढ़त बनाकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है। चुनाव में रूझान आने के बाद भाजपा बड़े भाई के रूप में उभरी है तो जदयू का बड़ा झटका लगा है। वहीं, रूझानों में जदयू तीसरे नंबर पर बनी हुई है। ऐसे में इस चुनाव में बीजेपी को मजबूती मिलती दिख रही है। पूरे महागठबंधन पर बीजेपी भारी साबित हो सकती है। हालांकि अभी स्पष्ट कह देना जल्दी होगा पर शाम तक तस्वीर सामने होगी। बिहार चुनाव में किस समीकरण पर मतदाताओं ने अपनी सरकार चुनी। इस लिहाज से यदि सभी प्रमुख दलों पर नजर डाली जाए तो सबसे बड़ा नुकसान नीतीश की जेडीयू को देखने को मिल रहा है और सबसे बड़ा फायदा बीजेपी को मिल रहा है। 

इधर, बीजेपी सूत्रों की मानें तो बिहार चुनाव के रुझान आने के साथ ही गठबंधन के नेताओं ने नई रणनीति पर चर्चा शुरू कर दी है। संकेत है कि अगर एनडीए बहुमत से कुछ सीटें दूर रहेगा तो वह महागठबंधन के बाहर के दलों का सहयोग भी ले सकता है। इस बात की भी संभावना बन सकती है कि महागठबंधन के साथ गए दलों में भी फूट पड़ सकती है। हालाकि ऐसी नौबत होती नहीं दिखाई दे रही है। भाजपा सूत्रों के अनुसार, चुनाव नतीजों के अनुसार सभी तरह की संभावनाएं तलाशी जाएंगी। ऐसे में सारी संभावनाएं खुली हुई है और राजग भी खुले मन से सब पर विचार करेगा। 

बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी

इस चुनाव में जो सबसे अप्रत्याशित देखने को मिला है कि भाजपा का रूझानों में सबसे बड़ी बनकर उभरना। नीतीश को चेहरा मानकर चुनाव लड़ने वाली भाजपा अब बड़े भाई के रूप में दिखाई दे रही है। चुनाव नतीजों के बाद एनडीए की सरकार मेें साफ तौर पर दबदबा दिखाई देगा। अब देखने वाली बात ये भी होगी कि एनडीए की सरकार बनी तो एनडीए का कैबिनेट में कितनी दखल होगी। हालाकि इन सभी बातों पर चर्चा तो चुनाव नतीजों के बाद शुरू होगा, लेकिन बड़े भाई के रूप में पहली बार बिहार में बीजेपी नए समीकरण पर विचार जरूर करेगी। 

मोदी की लोकप्रियता आई काम 

बिहार में एनडीए की जीत के पीछे सबसे बड़ी वजह पीएम मोदी की लोकप्रियता और केंद्र सरकार की योजनाओं का जनता को मिले लाभ को माना जा रहा है। उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन वितरण हो या पीएम किसान सम्मान निधि से किसानों को मिली सहायता या फिर प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीबों को मिले घर ने मोदी की लोकप्रियता को बरकरार रखा है। खासकर महिला वोटर्स में पीएम की लोकप्रियता बहुत अधिक है। एनडीए में पार्टी वाइज सीटों को देखने से भी यह साफ हो जाता है। बीजेपी के सीटों की संख्या जेडीयू से काफी अधिक है। बीजेपी इस चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। 

मोदी को ध्यान में रखकर एनडीए को लोगों ने किया वोट

ऐसा नहीं है कि 15 सालों से सत्ता में काबिज नीतीश से लोगों में नाराजगी नहीं है। लोग एक तरफ अच्छी सड़कों और बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं से खुश हैं, लेकिन एक बड़ा वर्ग भ्रष्टाचार, शराबबंदी की विफलता और रोजगार के मोर्चे पर फेल होने की वजह से नीतीश कुमार को सत्ता से हटाना चाहता था, लेकिन ऐसे मतदाताओं में से अधिकतर ने मोदी को ध्यान में रखकर एनडीए को वोट किया।

पटना से मदन कुमार की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News