MOTIHARI NEWS : बाढ़ के पानी के तेज बहाव से ब्रिटिश काल का पुल हुआ ध्वस्त, बड़ा हादसा होने से बचा,आवागमन ठप

MOTIHARI NEWS : बाढ़ के पानी के तेज बहाव से ब्रिटिश काल का पुल हुआ ध्वस्त, बड़ा हादसा होने से बचा,आवागमन ठप

MOTIHARI : जिले में बाढ़ की स्थिति ने विकराल रूप ले लिया है। जिला के कई प्रखंड अभी बाढ़ के चपेट में है। डीएम शीर्षत कपिल अशोक सहित कई पदाधिकारियो द्वारा बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण कर पदाधिकारियो को कई आवश्यक निर्देश दिया गया है। डीएम के निर्देश पर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में एनडीआरएफ टीम, नाव, प्लास्टिक वितरण, सूखा राशन वितरण सामुदायिक किचेन आवश्यकता अनुसार चलकर जनमानस को राहत पहुंचाया जा रहा है। वही आज शाम सूगैली के छपरा बहास स्थित सूगैली -छपरा बहास मुख्य पर अंग्रेज के जमाने का बना पुल बाढ़ के पानी के दबाव के कारण ध्वस्त हो गया। सड़क काफी चालू रहने के कारण बड़ा हादसा होने से बचा है। पुल के ध्वस्त होते ही भगदड़ मच गया। वही सड़क के दोनों तरफ गाड़ी की लंबी कतार लग गयी। पुल ध्वस्त होने से आवागमन बाधित हो गया।बीडीओ ने बताया कि पुल ध्वस्त होने की सूचना वरीय पदादिकारी को दिया गया है।

छपरा बहास स्थित सुगौली-छपरा बहास मुख्य मार्ग पर बना पुल गुरुवार की शाम अचानक बाढ़ के पानी मे गिर गया. गनीमत रही की हादसे के वक्त जान-माल का कोई नुकसान नहीं हुआ. यह पुल अंग्रेजी राज में बना था, जिसपर पूर्वी व पश्चिम चंपारण के साथ ही पड़ोसी देश नेपाल तक से बसें, जीप, चारपहिया व दोपहिय गाड़ियां आती जाती थी. अगर यह पुल दिन में गिरा होता, तो बड़ा हादसा हो सकता था, क्योंकि जर्जर होने के बावजूद इसे बंद नहीं किया गया था. वही पुल टूटने से वहां मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई. दोनो तरफ से कई किमी तक लम्बा जाम लग गया. एक बड़ा हादसा टलने से प्रशासन ने भी राहत की सांस ली. 

बताते चले कि  प्रधानमंत्री सड़क योजना से निर्माण कराये गये इस सड़क पर छपरा बहास रेलवे गुमटी संख्या 170 सी के समीप अंगेजो के जमाने के पुल पर ही सड़क का निर्माण करा दिया गया था. वही एनएच का विगत कई वर्षों से कार्य कराये जाने को लेकर प्रतिदिन हजारों लोग इस सड़क गुजरते थे. गुरुवार कि शाम पुल टूटते ही लोग दशहत में आ गए और भगदड़ मच गई. खबर प्रेषण तक अधिकारियों के द्वारा सुधि नही ली गई थी. इस सम्बंध में बीडीओ सरोज कुमार रजक ने बताया कि अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई है. सम्बंधित विभाग को लिखा जा रहा है.

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट


 

Find Us on Facebook

Trending News