अब सम्मान की बात बन चुका है बड़हिया में ट्रेनों के ठहराव का मामला, 13 लोगों के आंदोलन में जुड़ गए हजारों लोग

अब सम्मान की बात बन चुका है बड़हिया में ट्रेनों के ठहराव का मामला, 13 लोगों के आंदोलन में जुड़ गए हजारों लोग

LAKHISARAI. बड़हिया में ट्रेनों के ठहराव के लिए कुछ लोगों द्वारा पांच दिन पहले शुरू किया गया आमरण अनशन अब जन आंदोलन का रूप अख्तियार करता नजर आ रहा है। शुरुआत में 13 लोगों के अनशन से शुरू हुए आंदोलन में अब शहर के हजारों लोग जुड़ गए हैं. जिनके लिए अब बड़हिया स्टेशन में प्रमुख एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव की मांग अब सम्मान का विषय बन चुका है। 

बुधवार को आंदोलन के समर्थन में कुछ लोगों द्वारा शहर में कैंडल मार्च निकाला गया था। मार्च में शामिल लोगों को भी इस बात की उम्मीद नहीं थी कि इस रैली में हजारों लोग जुड़ जाएंगे। हालत यह थी कि शहर की सड़कों पर आंदोलन से जुड़े लोग ही नजर आ रहे थे। लोगों का कहना था बड़हिया के साथ रेलवे सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। जब तक यहां ट्रेनों के ठहराव की मांग को मंजूर नहीं किया जाता है, तब तक यह आंदोलन खत्म नहीं होगा। 

दूसरे जगहों से भी मिल रहा समर्थन

ट्रेनों के ठहराव को लेकर किए जा रहे अनशन को न सिर्फ बड़हिया के लोगों का पूरा समर्थन मिल रहा है, बल्कि पास के दूसरे जगहों से भी लोगों ने आंदोलन को जायज बताया है। डूमरी हॉल्ट के लोगों ने बताया कि इलाके में बेहतर सुविधा सबके लिए जरुरी है, इसके लिए जो भी कदम उठाना पड़े, उसका समर्थन करना चाहिए।

जनप्रतिनिधियों और प्रशासन से निराशा

एक तरफ अनशनकारियों के साथ शहर के लोगों का जुड़ाव बढ़ता जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ इलाके के तमाम जनप्रतिनिधि या उनके समर्थक अभी तक उनका हाल तक पूछने के लिए नहीं पहुंचे हैं। यही हाल प्रशासन के अधिकारियों का है। सरकारी तंत्र से जुड़ा कोई अधिकारी अनशकारियों से बात करने नहीं आया है, जबकि आंदोलन को पांच दिन का समय गुजर चुका है। जिससे यहां के लोगों में निराशा है। 

Find Us on Facebook

Trending News