डॉक्टर बनने से पहले धरने पर क्यों बैठे मेडिकल के छात्र-छात्राएं, पढ़िए पूरी खबर

डॉक्टर बनने से पहले धरने पर क्यों बैठे मेडिकल के छात्र-छात्राएं, पढ़िए पूरी खबर

BETTIAH : गुरुवार को पश्चिमी चंपारण के बेतिया गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अस्पताल की सेकेंड वर्ष की छात्र-छात्राओं ने अपनी मांगो को लेकर कॉलेज परिसर में अनिश्चितकालीन धरना का आयोजन किया. इस मौके पर छात्राओं ने कह कि कॉलेज प्रशासन हमारे भेदभाव करता है. 

परीक्षा के महज 48 घंटे पहले परीक्षा केंद्र को बदल कर यहाँ से 65-70 किलोमीटर की कर दिया गया है. इससे छात्र- छात्राओं को बेवजह हराश करने की कोशिश की जा रही है. छात्राओं ने कहा कि बिहार में दूसरी जगहों पर होम सेंटर पर परीक्षा ली जा रही है. उन्होंने कहा कि परीक्षा 1 जुलाई से शुरू हुई है. लेकिन सेंटर दूर होने के कारण बेतिया गवर्नमेंट कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने पैथोलोजी 1 और 2 की परीक्षा नहीं दिया है. 

इस संबध मे कॉलेज में पढ़ रही छात्रा रूचि और छात्र शिवम् ने बताया की परीक्षा से महज 48 घंटे पहले हमलोगों के परीक्षा सेंटर को यहाँ से बदलकर 65-70 किलोमीटर दूर मोतीहारी कर दिया गया है. इसकी वजह से यहाँ से वहाँ जाकर परीक्षा देने काफी कठिनाई है. 

जबकि सभी मेडिकल कॉलेज में होम सेंटर पर परीक्षा ली जा रही है. इस मामले को लेकर वे लोग वाईस चांसलर और चांसलर से भी मिले है. लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला है. हमलोगों का दो पेपर पैथोलोजी 1 और 2 की परीक्षा छूट गया है. उन्होंने कहा की जबतक हमलोगों की मांगो को नही माना जाएगा और बीते सभी परीक्षाओ को नही लिया जाएगा. तबतक हमलोग अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे रहेंगे. 

 बेतिया से आशीष कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News