नए प्रदेश अध्यक्ष के चयन से पहले राहुल गांधी की क्लास में पहुंचे बिहार के सांसद, विधायक और तमाम कांग्रेसी, जाने क्या मिला निर्देश

नए प्रदेश अध्यक्ष के चयन से पहले राहुल गांधी की क्लास में पहुंचे बिहार के सांसद, विधायक और तमाम कांग्रेसी, जाने क्या मिला निर्देश

NEW DELHI/PATNA : देश के कई राज्यों में कांग्रेस में मची उठापटक से बिहार भी अछूता नही है। पिछले कई दिनों से बिहार कांग्रेस में टूट की खबरें सामने आ रही है। इन सबके बीच बुधवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार के तमाम सांसदों, विधायकों और पार्टी के दिग्गज नेताओं को दिल्ली तलब कर लिया। जहां बताया जा रहा है कि उन्होंने लगभग एक घंटे से भी ज्यादा समय तक बिहार में कांग्रेस की मौजूदा स्थिति को लेकर चर्चा की। इस दौरान बैठक में शामिल रहे पूर्व सांसद कीर्ति आजाद और पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार ने बताया कि बैठक का उद्देश्य कांग्रेस को किस प्रकार बेहतर किया जाए, इस पर चर्चा होनी थी। 

कई प्रदेशों में अंदरुनी कलह से जुझ रही कांग्रेस बिहार में एक तरफा निर्णय का जोखिम नहीं उठाना चाहती। इसलिए, सभी से चर्चा के बाद फैसला करना चाहती है। इसी का असर है कि बुधवार को बिहार कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेताओं को राहुल गांधी ने दिल्ली मीटिंग के लिए बुलाया था। बताया जा रहा है कि इस बैठक का मुख्य उद्देश्य पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष के चयन को लेकर था। वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है और वह साफ कर चुके हैं कि यह जिम्मेदारी आगे नहीं संभालेंगे। इसके बाद से ही बिहार के प्रदेश अध्यक्ष को लेकर रस्साकस्सी तेज है।


भक्त के विचारों से सहमत नहीं हैं पार्टी नेता

दरअसल, विधानसभा चुनाव में शर्मनाक प्रदर्शन के बाद पार्टी ने भक्त चरण दास को बिहार का प्रभारी नियुक्त किया। दास ने जिम्मेदारी संभालते ही यह संकेत दे दिए कि वह किसी दलित को अध्यक्ष बनाना चाहते हैं।  लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में इस पर विरोध शुरू हो गया, जिसके बाद यह फैसला लिया गया था कि इसका निर्णय बैठक के बाद लिया जाएगा। पार्टी के कई नेता सवर्ण को अध्यक्ष बनाने की वकालत कर रहे हैं। इन नेताओं की दलील है कि मदन मोहन झा के बाद किसी सवर्ण नेता को ही प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहिए।  इन सबके बीच मुस्लिम तबके में पार्टी की स्थिति को मजबूत करने के लिए अल्पसंख्यक वर्ग से प्रदेश अध्यक्ष चुने जाने की मांग है।

पार्टी नेताओं ने किया इनकार

बैठक के मुख्य एजेंडे को लेकर जब पूर्व सांसद कीर्ति आजाद और पूर्व स्पीकर मीरा कुमार से बात की गई तो उन्होंने इस पार्टी की सामान्य बैठक करार दिया। इस दौरान उन्होंने बिहार कांग्रेस में टूट की चर्चा की बात को पूरी तरह से नकारते हुए कहा कि यह पूरी तरह से गलत है। पार्टी में किसी तरह की टूट नहीं है। दोनों नेताओं ने बताया कि बैठक में मुख्य रूप से बिहार में कांग्रेस की स्थिति को बेहतर करने के लिए क्या बेहतर कदम हो सकते हैं, उस पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि बैठक में राहुल गांधी ने साफ कहा कि वह बिहार के लोगों के लिए बेहतर करना चाहते हैं, इसके लिए जरुरी है का पार्टी अधिक से अधिक लोगों तक संपर्क बनाए। 

Find Us on Facebook

Trending News