जेल में कैदी की हुई जबर्दस्त धुनाई, वीडियो वायरल होने से फैली सनसनी

BEGUSARAI - जेल के अंदर की भयावह तस्वीर बाहर आयी है, जिसे देखकर आप सहम जायेंगे। वीडियो को देखकर आप सहसा अंदाजा लगा सकते हैं कि जेल के अंदर भी कोई कैदी सुरक्षित नहीं। कैसे रसूखवाले कैदियों ने जेल के अंदर अपना दबदबा बना रखा है, यह तस्वीर उसकी भी तस्दीक करती है। दबंग कैदियों द्वारा एक कैदी की जमकर पिटाई की जाती है। उसे इतना मारा जाता है कि उसका हाथ टूट जाता है और उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता है। 


वायरल वीडियो में कैदी सोनू कुमार झा को गंदी-गंदी गालियां दी जा रही हैं। उसे लात-घूंसे और डंडों से मारा जाता है। सोनू झा का आरोप है कि उसे मारनेवाले कैदी लालू राय के आदमी हैं और यह सब शंभू झा के इशारे पर हो रहा है। वीडियो में साफ सुनाई दे रहा है कि एक कैदी बोल रहा है कि जिले में दो ही बाहुबली रहेंगे कुंदन सिंह और लालू राय।   

बेगूसराय में इस वायरल वीडियो ने प्रशासनिक महकमे में खलबली मचा कर रख दी है। वायरल वीडियो बेगूसराय मंडलकारा का है जहां जेल में बंद एक कैदी की 2 दर्जन से भी अधिक कैदियों के द्वारा बेरहमी से जानवरों की तरह पिटाई की जा रही है। हालांकि इस मामले में अभी प्रशासनिक पदाधिकारी कुछ भी बोलने से इंकार कर रहे हैं लेकिन पीड़ित की माने तो जेल में बंद एक सरगना के द्वारा उसकी पिटाई की गयी जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। फिलहाल उसका इलाज सदर अस्पताल बेगूसराय में चल रहा है।



क्या है पूरा मामला

जानवरों की तरह पिट रहा कैदी बेगूसराय और समस्तीपुर जिले के सीमावर्ती क्षेत्र के रहने वाले दिवाकर कुमार का पुत्र सोनू कुमार झा है। पीड़ित सोनू की माने तो पहले इसके साथ पुलिस ने नाइंसाफी करते हुए झूठे मामले में फंसा कर जेल भेज दिया। बाद में जब वह उस मामले से निकला तो दोबारा फिर दूसरे मामले में फंसाकर उसे जेल में डाल दिया गया। शक के आधार पर जेल में पूर्व से बंद लालू राय नामक दबंग कैदी ने अपने अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर सोनू झा की जमकर पिटाई की और उसका वीडियो बनाकर अपने गुर्गों के मोबाइल पर भेज दिया। 

जेल में भी सुरक्षित नहीं हैं कैदी

वायरल वीडियो से जेल प्रशासन पर भी अंगुली उठना शुरू हो गया है। मसलन, जेल में मोबाइल कैसे पहुंचा...जेल में एक कैदी की पिटाई हो रही है और सुरक्षा प्रहरी चैन की नींद सो रहे थे। जेल में बंद कैदियों की सुरक्षा की जिम्मेवारी किसपर है ? इस तरह के तमाम सवाल हैं जो जेल प्रशासन की सुस्ती, अनदेखी व लापरवाही की ओर इशारा करते हैं। 

Find Us on Facebook

Trending News