सावधान : बिहार में मौसम विभाग ने किया ऑरेंज अलर्ट जारी, इन जिलों में आंधी-वज्रपात के साथ होगी मूसलाधार बारिश

सावधान : बिहार में मौसम विभाग ने किया ऑरेंज अलर्ट जारी, इन जिलों में आंधी-वज्रपात के साथ होगी मूसलाधार बारिश

PATNA: बंगाल की खाड़ी में सक्रिय यास तूफान का असर पूरे बिहार पर होगा. आपदा प्रबंधन विभाग ने इस तूफान को देखते हुए राज्य के सभी जिलों में अलर्ट घोषित कर दिया है. सभी जिला पदाधिकारियों को उत्पन्न स्थितियों से निपटने की सारी तैयारी कर लेने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं. साथ ही जिलों में तैनात आपदा मोचन बल को भी अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया है. इस तूफान का असर बिहार में 27 मई से 30 मई के बीच देख सकता है. इस दौरान भारी वर्षा के साथ तेज हवा और वज्रपात की संभावना है.

मौसम विभाग के मुताबिक बिहार के 22 जिलों में मध्य बारिश और 16 जिलों में आंधी तूफान के साथ तेज हवाएं चलेगी, जिससे वज्रपात की भी संभावना है. मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में सक्रिय तूफान उड़ीसा से लगभग 450 किलोमीटर दूर है. 26 मई की शाम को यास तूफान के उड़ीसा और पश्चिम बंगाल तक पहुंचने की संभावना है. इसके बाद झारखंड होते हुए बिहार में तूफान प्रवेश करेगा. यास तूफान के असर से बिहार के सभी हिस्सों में बारिश होगी. साथ ही तापमान में 5 से 7 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की जाएगी. फिलहाल 25 मई तक बिहार के दक्षिणी हिस्से में मौसम शुष्क रहेगा, जबकि पूर्वी हिस्से में तेज हवा के साथ बारिश होती रहेगी.

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने राज्य आपदा प्रबंधन विभाग को तूफान की आशंका की जानकारी दी है. इसके लिए आपदा प्रबंधन को भेजे गये पत्र में मौसम विभाग ने कहा कि इस तूफान के कारण 27 से 30 मई तक बिहार में कुछ जिलों में भारी वर्षा हो सकती है. साथ ही, ठनका गिरने की आशंका भी है. इसका असर 27 और 28 मई को सबसे अधिक दिख सकता है. कहीं-कहीं पर तूफान का असर 28 घंटे तक रह सकता है. यास तूफान की आशंका के मद्देनजर बिजली कंपनी ने भी इससे निपटने की रणनीति बनाई है. उसने इंजीनियरों को अलर्ट मोड में रहने को कहा है. तार-पोल सहित अन्य आवश्यक सामग्री का नजदीकी केंद्रों में भंडारण करने को कहा गया है, ताकि कम से कम समय में बिजली आपूर्ति बहाल हो सके.



Find Us on Facebook

Trending News