भारत के लिए बुरी खबर, बांग्लादेश को 1 अरब डॉलर का कर्ज देगा चीन

भारत के लिए बुरी खबर, बांग्लादेश को 1 अरब डॉलर का कर्ज देगा चीन

Desk: बांग्लादेश हमेशा से भारत का भरोसेमंद दोस्त रहा है लेकिन अब वहां भी चीन की आहट सुनाई देने लगी है. नेपाल के बाद अब चीन ने बांग्लादेश को अपनी आर्थिक मदद से लुभाने की कोशिश करनी शुरू कर दी है. बांग्लादेशी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन बांग्लादेश को नदी परियोजनाओं के लिए 1 अरब डॉलर का कर्ज देने जा रहा है. भारत के लिए ये चिंता की बात इसलिए भी है क्योंकि तमाम कोशिशों के बावजूद भारत-बांग्लादेश के बीच नदी जल बंटवारे को लेकर समझौता नहीं हो सका है.

बांग्लादेश के जल संसाधन मंत्रालय के अधीन जल विकास बोर्ड के एडीशनल चीफ इंजीनियर ज्योति प्रसाद घोष ने कहा कि तीस्ता नदी के प्रबंधन के लिए एक बहुत बड़ी परियोजना को शुरू किया जा रहा है जिसकी फंडिंग को लेकर चीन ने सहमति दे दी है. उम्मीद है कि हम दिसंबर महीने से इस परियोजना की शुरुआत कर सकते हैं. रिपोर्ट के मुताबिक मई महीने में बांग्लादेश के वित्त मंत्रालय ने रंगपुर इलाके में तीस्ता नदी प्रबंधन परियोजना के लिए 853 मिलियन डॉलर की मदद मांगी थी. ये पहली बार है जब चीन बांग्लादेश की नदी प्रबंधन से जुड़ी किसी परियोजना में शामिल होगा और फंडिंग के लिए कर्ज देगा.


बांग्लादेश के एक अन्य अखबार ने इकोनॉमिक रिलेशन डिवीजन को लिखे गए एक पत्र का हवाला दिया है जिसमें मंत्रालय ने चीन से तीस्ता नदी प्रोजेक्ट के लिए 883.27 मिलियन का कर्ज मांगा था. प्रोजेक्ट की समरी में कहा गया था कि सुरक्षात्मक कदम ना उठाने की वजह से हर साल बाढ़ से संपत्तियों-घरों को नुकसान पहुंच रहा है. बाढ़ आने से मृदा अपरदन की गंभीर समस्या भी सामने आ रही है. भारत के साथ तीस्ता नदी जल बंटवारा समझौते को लेकर बांग्लादेश किसी नतीजे पर पहुंचने का इंतजार कर रहा है. बांग्लादेश कई बार अपनी समस्याओं के लिए भारत को जिम्मेदार ठहरा चुका है. बांग्लादेश भारत से ढलान पर है इसलिए जल आपूर्ति के लिए वो भारत पर निर्भर है. हालांकि, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कड़े विरोध की वजह से ये समझौता पिछले 8 सालों से लटका हुआ है.

जल संसाधन मंत्रालय के वरिष्ठ सचिव कबीर बिन अनवर ने बातचीत में कहा, भारत की तरफ बनाए गए बांध की वजह से सर्दियों में पानी का बहाव धीमा पड़ जाता है जिससे बांग्लादेश में करीब दो महीने तक जल संकट जैसी स्थिति हो जाती है. अगर हम इस परियोजना को लागू कर पाते हैं तो सर्दियों में बांग्लादेश के एक बड़े हिस्से में जल आपूर्ति सुनिश्चित हो जाएगी. तीस्ता नदी भारत के सो लामो से निकलती है और सिक्किम, पश्चिम बंगाल से गुजरती है. बांग्लादेश के चिल्मड़ी में ब्रह्मपुत्र नदी में मिलने से पहले ये यहां के रंगपुर डिवीजन में प्रवेश करती है. तीस्ता उन 54 नदियों में से एक है जो भारत से बहते हुए बांग्लादेश में प्रवेश करती है.

Find Us on Facebook

Trending News