बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • जदयू चिकित्सा सेवा प्रकोष्ठ ने पीएमसीएच में ओपीडी सहित अन्य सुविधाओं के उद्घाटन पर जताई ख़ुशी, कहा सीएम नीतीश के नेतृत्व में स्वास्थ्य सेवाओं का हो रहा विकास
  • जदयू चिकित्सा सेवा प्रकोष्ठ ने पीएमसीएच में ओपीडी सहित अन्य सुविधाओं के उद्घाटन पर जताई ख़ुशी, कहा सीएम

  • 28 फरवरी को सिवान आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जिलाधिकारी और एसपी ने लिया कार्यक्रम स्थल का जायजा
  • 28 फरवरी को सिवान आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जिलाधिकारी और एसपी ने लिया कार्यक्रम स्थल का जायजा

  • यूपी में क्रांस वोटिंग ने अखिलेश को दिया झटका, तीन की जगह राज्यसभा की दो सीटों से ही करना पड़ा संतोष, भाजपा के खाते में आठ सीट
  • यूपी में क्रांस वोटिंग ने अखिलेश को दिया झटका, तीन की जगह राज्यसभा की दो सीटों से ही

  • भाई के हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल होने पर बोले लोजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष, कहा विधि सम्मत कार्रवाई के लिए हैं तैयार
  • भाई के हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल होने पर बोले लोजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष, कहा विधि सम्मत कार्रवाई

  • तमिलनाडु में रालोमो की इकाई गठित, टी.एस दासप्रकाश बने अध्यक्ष, उपेंद्र कुशवाहा ने दी बधाई
  • तमिलनाडु में रालोमो की इकाई गठित, टी.एस दासप्रकाश बने अध्यक्ष, उपेंद्र कुशवाहा ने दी बधाई

  •  प्रदेश की आपसी सद्भाव को खत्म करना ही जन विश्वास यात्रा का लक्ष्य  : प्रभाकर मिश्र
  • प्रदेश की आपसी सद्भाव को खत्म करना ही जन विश्वास यात्रा का लक्ष्य : प्रभाकर मिश्र

  • नालंदा पहुंचे बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इंडिया गठबंधन पर किया हमला, कहा 7 परिवारों ने अस्तित्व बचाने के लिए बनाया एलायंस
  • नालंदा पहुंचे बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इंडिया गठबंधन पर किया हमला, कहा 7 परिवारों ने अस्तित्व बचाने

  • 45 साल की शादीशुदा महिला के प्यार में पागल था नाबालिग, जुदा होने का गम नहीं कर सका बर्दाश्त, दे दी जान
  • 45 साल की शादीशुदा महिला के प्यार में पागल था नाबालिग, जुदा होने का गम नहीं कर सका

  • नालंदा में बदमाशों ने चाकू से गोदकर की डॉक्टर के माँ की निर्मम हत्या, परिजनों ने जमीनी विवाद में घटना को अंजाम देने का लगाया आरोप
  • नालंदा में बदमाशों ने चाकू से गोदकर की डॉक्टर के माँ की निर्मम हत्या, परिजनों ने जमीनी विवाद

  • नालंदा में बेटी का इलाज कराकर घर लौट रहे दंपत्ति को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, पत्नी के सामने ही पति और पुत्री की हुई मौत
  • नालंदा में बेटी का इलाज कराकर घर लौट रहे दंपत्ति को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, पत्नी के सामने

भाजपा और कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, 80 प्रतिशत कम गई भाजपा की आमदनी, कांग्रेस भी परेशान

भाजपा और कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, 80 प्रतिशत कम गई भाजपा की आमदनी, कांग्रेस भी परेशान

पटना. भाजपा और कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. दोनों दलों की आमदनी में जोरदार कमी आई है. खासकर भाजपा की आमदनी करीब 80 प्रतिशत कम हो गई है. इसी तरह कांग्रेस को भी आमदनी के मामले में बड़ा झटका लगा है और पार्टी की आमदनी में 20 प्रतिशत से ज्यादा की कमी आई है. देश की आठ राष्ट्रीय पार्टीयों की वित्त वर्ष 2020-21 में कुल आमदनी 1373.783 करोड़ रुपए रही. राजनीतिक दलों के वित्तीय अनुशासन एवं अन्य गतिविधियों पर नजर रखने वाली गैर सरकारी संस्था एशोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफोर्म्स (एडीआर) द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आठों राजनीतिक दलों को हुई कुल आमदनी का 55 फीसदी अकेले भाजपा को हुआ है. भाजपा, कांग्रेस, बसपा, रांकपा, सीपीआई, सीपीएम, तृणमूल कांग्रेस और राष्ट्रीय पीपुल पार्टी की आमदनी को एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में दर्शाया है. इन आठ दलों को निर्वाचन आयोग से राष्ट्रीय दल की मान्यता प्राप्त है. 

निर्वाचन आयोग को राष्ट्रीय दलों की ओर से सौंपी गई वित्त वर्ष के लेनदेन की जानकारी में भाजपा की कुल आमदनी 752.337 करोड रुपये हुई. यह आठों राष्ट्रीय दलों को हुई कुल आमदनी 1373.783 करोड़ रुपए की तुलना में 54.764 करोड़ रुपए है. हालांकि अगर भाजपा को वित्त वर्ष 2019-20 में हुई आमदनी 3,623.28 करोड़ रुपए से तुलना करें तो वित्त वर्ष 2020-21 में पार्टी की आमदनी 79.24 फीसदी कम गई.


वहीं आमदनी के मामले में कांग्रेस दूसरी सबसे बड़ी पार्टी रही. कांग्रेस को वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान 285.765 करोड़ रुपए की आमदनी हुई जो आठों दलों की कुल आमदनी का 20.801 फीसदी है. वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान कांग्रेस की आय 682.21 करोड रुपये थी जो गत वित्त वर्ष में 58.11 प्रतिशत घटकर 285.765 करोड रुपये हो गई है.

वित्त वर्ष 2019-20 की तुलना वित्त वर्ष 2020-21 में तृणमूल, रांकपा, बसपा, सीपीआई और एनपीपी की आमदनी क्रमशः 48.20 फीसदी, 59.19 फीसदी, 67.65 फीसदी और 9.94 फीसदी कम रही.