BIG BREAKING : बिहार में जहरीली शराब से हुई 53 लोगों की मौत का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट... क़ानूनी पचड़े में नीतीश की शराबबंदी

BIG BREAKING : बिहार में जहरीली शराब से हुई 53 लोगों की मौत का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट... क़ानूनी पचड़े में नीतीश की शराबबंदी

पटना. छपरा में जहरीली शराब से 53 से ज्यादा लोगों की हुई मौत का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. शुक्रवार को इसे लेकर देश की शीर्ष अदालत में एक याचिका दायर की गई और जल्द सुनवाई की मांग की गई. आर्यावर्त महासभा फाउंडेशन ने ये याचिका दाखिल की है. याचिका में बिहार में अवैध शराब से हुई मौतों की स्वतंत्र जांच के लिए एसआईटी के गठन की मांग की गई है. इस मामले पर जल्द सुनवाई की मांग की गई है, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने इंकार कर दिया है और कहा है कि मेंशनिंग लिस्ट में मामला नहीं है.

देशभर में अवैध शराब के निर्माण, व्यापार और बिक्री को काबू करने को लेकर नेशनल एक्शन प्लान बनाने की मांग की गई है. साथ ही बिहार में मारे गए लोगों को परिजनों को उचित मुआवजा देने के आदेश की मांग की गई है.  याचिकाकर्ता के वकील पवन प्रकाश पाठक ने CJI डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच के सामने जल्द सुनवाई की मांग की, लेकिन CJI ने कहा कि आपने मेंशनिंग के लिए मामले के लिस्ट नहीं कराया इसलिए जल्द सुनवाई की मांग नहीं मानी जा सकती. याचिका में कहा गया है कि सरकार की निष्क्रियता के कारण लोगों की जान चली गई है, लोगों के अधिकारों का हनन हुआ है.

इधर बिहार में शराबबंदी को लेकर लगातार हंगामा मचा हुआ है. छपरा में अब तक 53 लोगों के मौत की पुष्टि हो चुकी है. वहीं अभी भी कई लोगों के बीमार होने की बात कही जा रही है. कहा जा रहा है कि कई लोगों को इलाज चल रहा है. छपरा में पिछले 48 घंटों के दौरान पुलिस ने इस मामले में कई लोगों को गिरफ्तार भी किया है. साथ ही बड़े स्तर पर शराब जब्त हुई है. 

इन सबके बीच बिहार में इसे लेकर राजनीति भी तेज है. विपक्षी दल भाजपा ने विधानसभा से लेकर सड़क तक इस मामले में हंगामा मचा रखा है. विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भाजपा और सत्ताधारी दल के बीच लगातार इस मुद्दे पर बहसबाजी हो रही है. यहां तक कि भाजपा ने इस मुद्दे को लेकर राज्यपाल से मिलकर नीतीश कुमार की सरकार को बर्खास्त करने की भी मांग की है. 


Find Us on Facebook

Trending News