भूमिहार ब्राह्मण एकता महारैली के अध्यक्ष का बड़ा बयान, कहा-1.5 प्रतिशत आबादी वाला बन सकता है सीएम तो 7 प्रतिशत आबादी का वाला क्यों नहीं

भूमिहार ब्राह्मण एकता महारैली के अध्यक्ष का बड़ा बयान, कहा-1.5 प्रतिशत आबादी वाला बन सकता है सीएम तो 7 प्रतिशत आबादी का वाला क्यों नहीं

NAWADA : नवादा जिले एक निजी होटलमें सोमवार को भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच फाउंडेशन के तत्वाधान में  बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में भूमिहार ब्राह्मण एकता महारैली के राष्ट्रीय अध्यक्ष आशुतोष कुमार समेत महासचिव पुष्कर नारायण सिंह, उपाध्यक्ष सर्वेश कुमार, संयोजक आजाद,नालंदा जिलाध्यक्ष प्रिंस राज, गीता प्रसाद,राकेश बाबा,प्रभात कुमार,जिला महासचिव ललन,शशि कुमार आदि मौजदू रहें।

इस मौके पर एकता मंच के नेता ने  बताया कि गांधी मैदान में 07 नवम्बर को भूमिहार ब्राह्मण एकता महारैली को सफल बनाने के लिए आज   राष्ट्रीय अध्यक्ष आशुतोष कुमार जिले के सभी भूमिहार-ब्रह्मण समाज को आमंत्रित करने आए हैं। 

वहीं राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आज नवादा के पावन धरती पर नवादा जिलेवासियों को सभी दल से नेताओं को अपने समाज को ऊपर उठाने के लिए आमंत्रित करने आए हैं। नवादा के गांधी मैदान में 5 लाखों से भी अधिक भूमिहार ब्राह्मण के लोग रैली में शामिल होंगे। इस रैली को सफल बनाने में सभी जिला में जा कर बैठक कर रहे।

आशुतोष कुमार ने कहा कि इतिहास में पहली बार लाखों की संख्या में भूमिहार ब्राह्मण समाज के लोग अपने अधिकारों की आवाज उठाएंगे। आज तेजी से हमारे समाज का पतन हो रहा है, क्योंकि हम लोग एकजुट नहीं हैं। राज्य की हर पार्टी हमें सिर्फ एक वोट के रूप में देखती है। आज के इस लोकतंत्र में भीड़तंत्र हावी हो चुका है। जिसकी जितनी संख्या होती है उसी की  पूछ हो रही है। अब समय आ चुका है ब्रह्मास्त्र छोड़ने का जो 7 नवंबर को पटना से छूटेगा।

उन्होंने कहा कि हमारी ना किसी पार्टी से दुश्मनी है ना किसी समाज से। आशुतोष ने कहा कि जब 1.5 प्रतिशत आबादी वाला मुख्यमंत्री बन सकता है, तो 7.5 प्रतिशत वाला क्यों नहीं। इसके लिए सभी को आपसी मतभेद मिटाकर एक होना होगा। आशुतोष ने इस दौरान भूमिहार नेताओं को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि भूमिहार समाज में वर्तमान में कोई ऐसा नेता नहीं है जो प्रदेश के अन्य नेताओं के जैसे खुले मंच यासदन में खड़ा होकर यह कह सके कि हां मैं भूमिहार का नेता हूं। कोई  सेक्यूलर हिंदू, तो कोई  बीजेपी या कांग्रेस, राजद, जदयू के नेता कहलाना पसंद करते हैं। 

नवादा से अमन सिन्हा की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News