बिहार-बंगाल बॉर्डर पर शराबबंदी का नहीं दिखता असर, आसानी से होती है आवाजाही

बिहार-बंगाल बॉर्डर पर शराबबंदी का नहीं दिखता असर, आसानी से होती है आवाजाही

कटिहार। बिहार-बंगाल के ओपन बॉर्डर पर शराबबंदी के बावजूद बंगाल सीमा से सटे बिहार में शराबबंदी का कोई असर नहीं है। स्थानीय लोगों के माने तो उस इलाके में सरकार की शराबबंदी पूरी तरह फ्लॉप शो है। कटिहार के बंगाल सीमा से सटे बलराम पुर प्रखंड  बीरनगर के खुले सीमा से शराबबंदी के हाल बताते हुए लोगो ने कहा कि यहां शराबबंदी का कोई असर नहीं है, आए दिन खुले बॉर्डर से शराब का अनजान लगा हुआ रहता है,न तो उत्पाद विभाग का कोई चेक पोस्ट है और न ही स्थानीय पुलिस की गश्ती है ऐसे में शराब तस्करों के लिए यह इलाका सेफ कॉरिडोर बना हुआ है, वहीं स्थानीय लोग भी शराब पीने से हिचकते नहीं है, कुल मिलाकर बंगाल से सटे बिहार के बॉर्डर इलाके में शराबबंदी पूरी तरह फ्लॉप शो है।

यहां रहनेवाले अली हैदर बताते हैं बीरानगर दो राज्यों के बीच बसा हुआ है, जिसका एक हिस्सा बंगाल और एक हिस्सा बिहार में है। बिहार सरकार ने शराब पर रोक जरुर लगाई है, लेकिन यहां की सीमा पर जांच के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। बंगाल में बिक्री पर कोई रोक नहीं होने के कारण बिहार के लोग सीमा पार कर बंगाल जाते हैं और वहां शराब का सेवन कर वापस आते हैं। उनका कहना था कि रात में अक्सर यहां से शराब से भरी गाड़ियां गुजरते हुए देखी जा सकती है।

पूर्ण रूप से लगे रोक

बलरामपुर के लोगों का कहना है बिहार में शराब पर प्रतिबंध जरुर है, लेकिन इसे पूरी तरह से लागू नहीं किया गया है। शराब पीने पर रोक लगाने के लिए जरूरी है कि सरकार ऐसी व्यवस्था करे कि बिहार की सीमाओं के सटे राज्यों से राज्य में शराब के आने पूरी तरह से रोक लगे। 

Find Us on Facebook

Trending News