बिहार बीजेपी का यह नेता इश्कबाज है! अपनी ही पार्टी की नेत्री को भेजता है अश्लील वीडियो.....

बिहार बीजेपी का यह नेता इश्कबाज है! अपनी ही पार्टी की नेत्री को भेजता है अश्लील वीडियो.....

PATNA: हमेशा अलग चाल-चरित्र और चेहरा की बात करने वाली पार्टी का एक से एक नायाब चेहरा इन दिनों सामने आ रहा है।पार्टी के औरंगाबाद जिलाध्यक्ष से लेकर शेखपुरा जिलाध्यक्ष और फिर सीतामढ़ी के प्रदेश स्तरीय बड़े नेता सहित कई ऐसे चेहरे उजागर हो चुके है जिनका चाल-चरित्र कुछ और है वहीं चेहरा कुछ और। अब एक बार फिर से एक और चेहरा बेनकाब हुआ है। जिसपर अश्लील वीडियो भेजने का आरोप है। नेता जी ने अपनी ही पार्टी के नेताईन को अश्लील वीडियो भेज दिया।फिर क्या था पार्टी नेत्री ने अश्लील वीडियो भेजने वाले नेता को सबक सीखाने की ठान ली,ताकि दोबारा इस तरह की हरकत न कर सके।

प्रदेश अध्यक्ष को लिखा लेटर

बिहार प्रदेश क्रीडा मंच के सह संयोजक रहे हेमंत झा पर बड़ा ही गंभीर आरोप लगा है। आरोप किसी दूसरे ने नहीं बल्कि उनकी ही पार्टी की नेत्री की तरफ से लगाया गया है।दरभंगा जिले की महिला प्रकोष्ठ की एक नेत्री ने क्रीडा प्रकोष्ठ के प्रदेश सह-संयोजक हेमंत झा पर अश्लील वीडियो भेजने का आरोप लगाई है।महिला का आरोप है कि बीजेपी नेता हेमंत झा ने उके मोबाइल पर अश्लील वीडियो भेजा है।वीडियो ऐसा है कि देखने में भी शर्म महसूस हो रही है।दरभंगा की नेत्री ने अपने पत्र में उल्लेख किया है और प्रदेश नेतृत्व से पूछा है कि क्या महिलाओं की इज्जत नहीं होती है?अगर होती है तो न्याय चाहिए,ऐसा उक्त महिला ने प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल को लिखे पत्र में कही है।

पार्टी और खुद की इज्जत बचाने के लिए थाना में नहीं गई

दरभंगा की पीड़ित बीजेपी नेत्री ने न्यूज4नेशन से बातचीत में कही कि हमने पत्र के माध्यम से पूरी बात प्रदेश अध्यक्ष और संगठन महामंत्री को बता दी थी।पार्टी की प्रतिष्ठा बचाने को लेकर हम थाना में कोई कंप्लेन नहीं किए।जब हमने प्रदेश नेतृत्व से शिकायत की तो फोन से हमशे बात की गई और पूरी जानकारी ली गई।उसके बाद कोई कार्रवाई हुई या नहीं यह प्रदेश नेतृत्व ही बतायेगा।उन्होंने कहा कि जब इज्जत ही नहीं बचेगी तो फिर पार्टी में काम करने से क्या फायदा....।हालांकि इस संबंध में हेमंत झा से बात करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हुआ।

सीतामढ़ी में एक गालीबाज नेता का ऑडियो हुआ है वायरल

मामला सीतामढ़ी का है जहां, भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह व पार्टी की एक नेत्री जो महामंत्री के पद पर हैं उनके बारे में अपशब्द और आपत्तिजनक शब्द का प्रयोग किया गया। महिला नेत्री के बारे में पार्टी के ही दो नेताओं का ऑडियो एक बार फिर से वायरल है। वैसे  इस मामले में  महिला नेत्री की तरफ से भाजपा नेता के खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया था।वायरल ऑडियो में  एक तरफ भाजपा नेता जो सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक के पद पर कार्यरत हैं आशुतोष कुमार शाही और सुनील नायक के बीच बातचीत है.  बातचीत में सीतामढ़ी की एक महिला नेत्री  को लेकर अपशब्दों और  आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया गया था। 

ऑडियो में क्या है?

सैनिक प्रकोष्ठ के नेता आशुतोष कुमार शाही ने फोन पर बातचीत करते हुए कहते हैं कि भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह व पार्टी की एक नेत्री के बीच अवैध संबंध है . महिला नेत्री का वही धंधा है . इसके साथ ही गाली-गलौच एवं कई अन्य सनसनीखेज आरोप लगाए गए.

जिलाध्यक्ष ने कार्यवाई को लेकर प्रदेश अध्यक्ष को भेजा था पत्र

ऑडियो वायरल होने के बाद सीतामढ़ी  के भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह ने काफी पहले हीं पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और संगठन महामंत्री को पत्र लिखकर कार्यवाही करने  का आग्रह किया था. सीतामढ़ी जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह ने अपने पत्र में  लिखा था कि मोबाइल पर एक ऑडियो वायरल हुआ,जिसमें पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ के संयोजक आशुतोष शाही और व्यवसायिक प्रकोष्ठ के संयोजक सुनील नायक आपस में मोबाइल पर बातचीत करते सुनाई पड़ रहे हैं. इसमें जिला मंत्री  जो महिला हैं उनके बारे में आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया गया है. ऑडियो वायरल होने के बाद महिला नेत्री ने दोनों व्यक्तियों के खिलाफ f.i.r. थाने में दर्ज करा दिया है. सीतामढ़ी भाजपा जिला पदाधिकारियों की बैठक में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास हुआ कि आशुतोष साहू एवं सुनील नायक को अभिलंब निलंबित करते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता समाप्त करने की कार्यवाही  के लिए  प्रेषित किया जाए.  भाजपा जिला अध्यक्ष ने कार्यवाही के लिए प्रदेश अध्यक्ष  से सिफारिश की लेकिन  आज तक  महिला नेत्री के बारे में आपत्तिजनक शब्द प्रयोग करने वाले  भाजपा नेता आशुतोष कुमार शाही पर कोई कार्रवाई नहीं हुई.

गालीबाज नेता को पार्टी में मिला सम्मान!

बिहार बीजेपी नेतृत्व ने अपने जिलाध्यक्ष के उस पत्र को रद्दी की टोकरी में डाल दिया जिसनें आरोपी नेता पर कार्रवाई की सिफारिश की गई थी।सीतामढ़ी बीजेपी कमेटि की तरफ से सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर आरोपी नेताओं को पद के साथ-साथ पार्टी से निलंबित करने का आग्रह किया गया था। उल्टे पार्टी की महिला नेता के बारे में आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करने वाले आशुतोष कुमार शाही को एक बार फिर से  पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ का प्रदेश संयोजक नियुक्त कर दिया गया. आशुतोष कुमार शाही की ताकत  पार्टी में और बढ़ गई और वह अब सभी जिलों के लिए जिला संयोजक की नियुक्ति कर रहा है. वहीं इस मुद्दे पर बिहार बीजेपी का कोई भी जिम्मेदार नेता कुछ बोलने को तैयार नहीं।

Find Us on Facebook

Trending News