बिहार बीजेपी नहीं कर सकी लक्ष्य को पूरा, अब मिला एक्स्ट्रा टाईम..जानिए कब तक बढ़ाई गई समय सीमा..

बिहार बीजेपी नहीं कर सकी लक्ष्य को पूरा, अब मिला एक्स्ट्रा टाईम..जानिए कब तक बढ़ाई गई समय सीमा..

पटनाःबिहार बीजेपी का  सदस्यता महा-अभियान लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सका।लिहाजा सक्ष्य को छूने के लिए एक और मौका दिया गया है।आज बिहार प्रदेश मुख्यलाय में आयोजित बैठक में सदस्यता अभियान की तारीख को 11 अगस्त से बढ़ाकर 20 अगस्त किया गया है। बैठक में  बिहार भाजपा के सदस्यता अभियान की समीक्षा की गई। इस अवसर पर पार्टी के सांसद, मंत्री, विधायक, विधान पार्षद, सदस्यता अभियान प्रभारी, प्रदेश पदाधिकारियों  की बैठक हुई।जिसमें सदस्यता अभियान को तेज करने पर जोर दिया गया। 6 जुलाई से शुरु हुई सदस्यता अभियान के खत्म होने तारीख 11अगस्त से बढ़ाकर 20अगस्त किया गया। वहीं सक्रिय सदस्य बनने की तारीख पूर्ववत 11अगस्त से 31अगस्त, 2019 तक रहेगी।

बता दें कि शुरूआती एक महीनों में बीजेपी ने लक्ष्य का 25 फीसदी सदस्य भी नहीं पाई है। अभी भी लक्ष्य का 75 फीसदी से अधिक पूरा करना है।पार्टी नेताओं के लिए 10 दिनों में 75 फीसदी काम पूरा करना बड़ी मुश्किल लग रहा था लिहाजा समय सीमा को बढ़ा दिय़ा गया है।

जुलाई से शुरू है सदस्यता अभियान

बता दें कि 6 जुलाई को बीजेपी ने सदस्यता अभियान की शुरूआत की थी जो 11 अगस्त तक चलनी थी।।इस अभियान को सदस्यता महापर्व नाम दिया गया है।भाजपा कार्यालय में 6 जुलाई को ‘संगठन पर्व सदस्यता अभियान’ की शुरुआत करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री व बिहार प्रभारी भूपेन्द्र यादव ने कहा था कि राज्य में इस बार 25 लाख सदस्य बनाये जाएंगे। छह जुलाई से 11 अगस्त तक हर कार्यकर्ता नये सदस्यों को जोड़ेगा।

बिहार प्रभारी ने कहा था कि हर कार्यकर्ता घर-घर जाकर समाज के सभी वर्गों व समाज से नये सदस्य को पार्टी से जोड़ेंगे। देशभर में अभियान की शुरुआत हो गई, अब इस काम में आज से ही सबको लग जाना होगा। केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि देशभर में भाजपा का विस्तार तेजी से हो रहा है।

 6 लाख सदस्य बनाने का दावा

सदस्यता अभियान में अब 10 दिन शेष बचे हैं।लेकिन पार्टी अपने लक्ष्य से काफी पीछे है।जानकारी के अनुसार पार्टी अब तक अधिकतम 6 लाख नए सदस्यों को हीं पार्टी से जोड़ पाई है जबकि लक्ष्य 25-30 लाख से अधिक का है। हालांकि पार्टी के नेता लक्ष्य को हासिल नहीं करने के पीछे कई वजह बताते हैं।बीजेपी के नेताओं का कहना है कि बिहार विधानसभा सत्र और फिर 

Find Us on Facebook

Trending News